Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

क्रिकेट

IPL Vs Foreign League: विदेशी लीग में क्यों नहीं खेल सकते भारतीय प्लेयर, पढ़ें पूरा विश्लेषण

Sourav Ganguly
Why BCCI doesn't allow its players to take part in foreign leagues

Indians in Foreign Leagues: दुनिया की सबसे फेमस क्रिकेट लीग आईपीएल है. इस क्रिकेट टूर्नामेंट की सबसे बड़ी खासियत है कि इसमें हर क्रिकेटर खेलना चाहता है. आईपीएल में खेलने वाला खिलाड़ी शोहरत, पैसा सबकुछ कमाता है, लेकिन अगर वह विदेशी क्रिकेटर हैं तो उसके लिए पुरी दुनिया के क्रिकेट लीग खेलने में आजादी होती है. वहीं, अगर भारतीय क्रिकेटर हैं तो उनको आईपीएल के आलावा विश्व की किसी भी क्रिकेट लीग में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं होती है. इसको लेकर कई तरह के विवाद भी होते रहे है. पूर्व भारतीय क्रिकेटर से लेकर विदेशी प्लेयर्स तक ने इंडियन खिलाड़ियों को किसी और देश में होने वाली आईपीएल जैसी क्रिकेट लीग खेलने की इजाजत देने की वकालत की है.

खबर में खास
  • क्या है BCCI की सोच ?
  • आईपीएल फ्रेंचाइजी का BCCI पर बढ़ता दबाव
  • जानिए क्या है BCCI का प्लान
  • क्या है BCCI के नियम?
  • IPL में अनसोल्ड खिलाड़ियों का क्या?

क्या है BCCI की सोच ?

बीसीसीआई अपने क्रिकेटर्स को विदेशी लीग में खेलने की अनुमति नहीं देता है. अब इसे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का गुरुर कहे या इंडियन क्रिकेट की बेहतरी, क्योंकि बोर्ड का तर्क ही कुछ ऐसा है. तो चलिए इस ऑर्टिकल में समझते हैं क्या BCCI को भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी लीग्स में खेलने देना चाहिए?

जैसा कि सबको पता है बीसीसीआई दुनिया की सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड भी है. भारत ने वर्ल्ड को क्रिकेट और एंटरटेनमेंट का ‘कॉकटेल’ यानी आईपीएल (IPL) की सौगात दी है, जो मौजूदा समय में वर्ल्ड बेस्ट फ्रेंचाइजी क्रिकेट लीग है, मगर बीसीसीआई का एक फैसला भारतीय खिलाड़ी और दुनिया भर के क्रिकेट बोर्ड को परेशान कर रहा है. दरअसल, भारतीय क्रिकेटरों को विदेशी टी20 लीग (foreign T20 leagues) में खेलने की अनुमति नहीं है. विदेशों में आईपीएल के बढ़ते क्रेज और डिमांड के साथ-साथ भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी टी20 लीग में अनुमति देने की मांग काफी बढ़ गई है.

Photo- IndianPremierLeague (@IPL)/ Twitter

आईपीएल फ्रेंचाइजी का BCCI पर बढ़ता दबाव

अगर देखा जाए तो इसमें कुछ गलत नहीं है कि हमारे खिलाड़ी विदेशों में जाकर टी20 लीग खेले. कई ऐसे अंतर्राष्ट्रीय भारतीय क्रिकेटर हैं, जिन्होंने संन्यास लेने के बाद विदेशी टी20 लीग में हिस्सा लेना चाहा, लेकिन उन्हें बीसीसीआई से अनुमति नहीं मिली. जिसके बाद ये मामला काफी गरमाया भी था. माना जाता है कि बीसीसीआई आईपीएल टीम मालिकों का क्रिकेटर्स को विदेशी लीग्स में खेलने से रोकने का दबाव रहता है, क्योंकि अगर खिलाड़ी विदेशी क्रिकेट लीग खेलने लगेगा और अगर उसका प्रदर्शन अन्य लीग्स में शानदार रहा तो आईपीएल की नीलामी में खिलाड़ी को खरीदने के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे.

BCCI President Ganguly (ANI)
BCCI President Ganguly (ANI)

जानिए क्या है BCCI का प्लान

यह एक विवादास्पद मुद्दा जरूर है और शायद इसलिए कोई भी बीसीसीआई अधिकारी इस मामले पर खुलकर बात नहीं कर रहा है, लेकिन इनसाइडस्पोर्ट की एक रिपोर्ट में इस मुद्दे पर एक बड़ी जानकारी दी गई है. बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी का कहना है कि विदेशी फ्रेंचाइजी लीग में शामिल हो रही है आईपीएल टीमों ने बोर्ड से भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी लीगों में खेलने की अनुमति देने का अनुरोध किया है. मगर बोर्ड के कुछ नियम और कायदे हैं जिन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. हां बोर्ड इस बारे में सोच जरूर रहा है, लेकिन किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले हमें एजीएम में इस पर चर्चा करनी होगी.

Advertisement. Scroll to continue reading.

ये भी पढ़ें: विराट की 90 मिनट की पारी से झूम उठा हिंदुस्तान, अब तेंदुलकर के महारिकॉर्ड से 29 कदम दूर

क्या है BCCI के नियम ?

ऐसा नहीं है कि बीसीसीआई खिलाड़ियों के हित में नहीं है. वे खिलाड़ियों के हित की नीति बनाते है. मगर दिक्कत है बोर्ड के इस रवैये से जिसमें वो अन्य देशों के खिलाड़ियों को मोटी रकम देकर आईपीएल का हिस्सा बना रहे हैं, लेकिन ये मौका हमारे भारतीय खिलाड़ियों को नहीं मिला रहा, जिससे वो विदेशी लीग में जाकर खेले जैसे अन्य विदेशी खिलाड़ी हमारे देश में आकर आईपीएल खेलते हैं.

मौजूदा समय में केवल भारतीय महिला क्रिकेटरों को ही विदेशी लीगों में खेलने की अनुमति है. इसके अलावा संन्यास ले चुके कुछ पुरुष क्रिकेटर (जैसे प्रवीण तांबे, युवराज सिंह, जहीर खान और मुरली कार्तिक) ने भी विदेशी लीगों और टूर्नामेंटों में भाग लिया है.

IPL TROPHY/SOCIAL MEDIA

अगर आसान भाषा में समझें तो बीसीसीआई का कहना है कि किसी भी ऐसे भारतीय पुरुष खिलाड़ी को विदेशी लीगों और टूर्नामेंटों में खेलने की अनुमति नहीं है, जोकि घरेलू और इंटरनेशनल लेवल पर खेल रहे हैं. इतना ही नहीं अगर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके खिलाड़ी को आईपीएल खेलना है तो भी वो विदेशी लीग नहीं खेल सकता है. या यूं कह लीजिए अगर कोई खिलाड़ी विदेशी फ्रेंचाइजी लीग में भाग लेना चाहता है तो उसे पहले बीसीसीआई के साथ सभी करार को खत्म करना होगा.

IPL में अनसोल्ड खिलाड़ियों का क्या ?

Advertisement. Scroll to continue reading.

पूर्व भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना या ‘मिस्टर आईपीएल’ के नाम से मशहूर स्टार प्लेयर ने सभी तरह की क्रिकेट से संन्यास ले लिया है. इसकी एक बड़ी वजह आईपीएल के 15वें सीजन में अनसोल्ड होना भी है क्योंकि इस सीजन 10 टीम थी, लेकिन रैना के लिए बोली नहीं लगी. केवल रैना ही नहीं और भी ऐसे कई बड़े नाम है जिन्हें अनसोल्ड रहना पड़ा.

बड़ी बात ये है कि रैना ने संन्यास लेने के साथ ये भी ऐलान किया की वो अभी 2-3 साल और क्रिकेट खेलना चाहते हैं और अब वो अन्य लीग्स में खेलने के लिए फ्री हैं. इतना ही नहीं उन्हें विदेशी फ्रेंचाइजी ने कॉन्टेक्ट भी किया है. ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा की अगर बीसीसीआई इन नियमों में थोड़ा बदलाव करे और भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने का मौका दे तो रैना जैसे स्टार प्लेयर को समय से पहले भारतीय क्रिकेट से संन्याल लेकर घर नहीं बैठना पड़ेगा.

You May Also Like

बॉलीवुड

मॉडल ने पंखे से लटक कर अपनी जान दे दी. मौके से एक सुसाइड नोट मिला है. सुसाइड नोट में लिखा है, मौत के...

बॉलीवुड

मुंबई के अंधेरी इलाके में 30 साल की मॉडल आकांक्षा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. आत्महत्या से पहले आकांक्षा ने सुसाइट नोट में...

देश

नई दिल्लीः भारत में आज शुक्रवार को कोरोना के मामलों में गिरावट देखने को मिली है. पिछले 24 घंटे में कोविड-19 (India Coronavirus Case) के...

बॉलीवुड

खबरों की मानें त ऋचा के हाथ में सजी मेहंदी राजस्थान से आई है. इसके साथ ही मेहंदी सेरेमनी के लिए 5 ऑर्टिस्ट्स को...

Advertisement