Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

Gyanvapi Case: कोर्ट के फैसले पर महबूबा ने उठाया सवाल, कहा-‘मस्जिदों को तोड़ने में बन सकते हैं विश्वगुरु’

Mehbooba Mufti
महबूबा मुफ्ती (File Photo: ANI)

Mehbooba Mufti on Gyanvapi: पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद मामले में वाराणसी की अदालत का फैसला उपासना स्थल अधिनियम का स्पष्ट उल्लंघन है और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के ध्रुवीकरण के एजेंडे को पूरा करता है. उन्होंने दावा किया कि बीजेपी (BJP) के पास लोगों को देने के लिए कुछ भी नहीं है. उन्होंने कहा कि बीजेपी (BJP) रोजगार देने और महंगाई को नियंत्रित करने में पूरी तरह से विफल रही है और यदि यह स्थिति इसी तरह बनी रही, तो हम किसी अन्य चीज के बजाय मस्जिदों को तोड़ने में विश्वगुरु बन सकते हैं.

खबर में खास

  • 1991 का अधिनियम इस मामले में लागू नहीं होता
  • सांप्रदायिक माहौल बनेगा: महबूबा
  • “देशवासी हर गुजरते दिन के साथ गरीब होते जा रहे”
  • “बीजेपी हिंदुओं और मुसलमानों को बांटने में सबसे आगे”

1991 का अधिनियम इस मामले में लागू नहीं होता

उत्तर प्रदेश में वाराणसी की जिला अदालत ने सोमवार को ज्ञानवापी शृंगार गौरी मामले की विचारणीयता पर सवाल उठाने वाली मुस्लिम पक्ष की याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि वह देवी-देवताओं की दैनिक पूजा के अधिकार के अनुरोध वाली याचिका पर सुनवाई जारी रखेगी, जिनके विग्रह ज्ञानवापी मस्जिद की बाहरी दीवार पर स्थित हैं. अदालत ने कहा था कि 1991 का अधिनियम इस मामले में लागू नहीं होता है.

सांप्रदायिक माहौल बनेगा: महबूबा

महबूबा ने यहां मीडिया से कहा, “मेरा मानना है कि अदालत स्वयं अपने आदेशों और 1991 के उस अधिनियम का सम्मान नहीं कर रही है जिसके तहत धार्मिक संरचनाओं को 1947 के बाद उसी स्वरूप में बरकरार रखे जाने की बात कही गई है यानी उनके पुराने स्वरूप में कोई बदलाव नहीं किया जायेगा.” इससे पहले एक ट्वीट में उन्होंने कहा, “उपासना स्थल अधिनियम के बावजूद ज्ञानवापी पर अदालत के फैसले से हंगामा होगा और सांप्रदायिक माहौल बनेगा जो बीजेपी (BJP) के एजेंडे के अनुरूप है. यह एक चिंताजनक स्थिति है कि अदालत अपने ही फैसलों का पालन नहीं करती हैं.”

Advertisement. Scroll to continue reading.

“देशवासी हर गुजरते दिन के साथ गरीब होते जा रहे”

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि दो लोगों को छोड़कर देशवासी हर गुजरते दिन के साथ गरीब होते जा रहे हैं और इन चीजों से “ध्यान हटाने के लिए, वे (बीजेपी (BJP)) हिंदुओं और मुसलमानों को एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा करने के मकसद से सांप्रदायिक कार्ड खेल रहे हैं.” प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत के विश्वगुरु बनने की ओर बढ़ने संबंधी बीजेपी (BJP) नेताओं के बयानों का जिक्र करते हुए महबूबा ने कहा, “हम किसी और चीज के बजाय मस्जिदों को तोड़ने में विश्वगुरु बन सकते हैं.”

“बीजेपी हिंदुओं और मुसलमानों को बांटने में सबसे आगे”

उन्होंने कहा कि देश के लोगों को यह समझने की जरूरत है कि बीजेपी (BJP) हिंदुओं और मुसलमानों को बांटने में सबसे आगे है और अपने हितों के लिए संविधान को कुचल रही है. पीडीपी नेता ने अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को निरस्त करने और जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन का जिक्र किया और कहा, “पूरे देश ने देखा है कि कैसे सत्तारूढ़ दल ने अपने प्रचंड बहुमत के जरिये संविधान का उल्लंघन किया और तत्कालीन राज्य के लोगों के मौलिक अधिकारों को छीन लिया.”

उन्होंने कहा, “आप बोलने में असमर्थ हैं, पत्रकारों और कार्यकर्ताओं को जेल में डाला जा रहा है और गैरकानूनी गतिविधि (निवारण) अधिनियम का लगातार इस्तेमाल किया जा रहा है और राजनीतिक नेताओं को चुप कराया जा रहा है. लोग धीरे-धीरे समझ रहे हैं कि बीजेपी (BJP) संविधान का उल्लंघन कर रही है.”

Advertisement. Scroll to continue reading.
Advertisement

Trending

You May Also Like

Advertisement