Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

Gyanvapi Case: कथित ‘शिवलिंग’ की कार्बन डेटिंग पर टला फैसला, अब 11 अक्टूबर को होगी सुनवाई

हिंदू पक्ष के अलावा मुस्लिम पक्ष भी फैसले का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहा था. हालांकि कोर्ट ने आज कोई फैसला नहीं सुनाया और सुनवाई को आगे के लिए टाल दिया. अब कोर्ट 11 अक्टूबर को फिर से इस मामले की सुनवाई करेगा.

Gyanvapi Masjid Case
ज्ञानवापी मस्जिद

काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद में मिले कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग पर आज वाराणसी की जिला कोर्ट का फैसला आना था. कोर्ट के फैसले पर सभी की निगाहें टिकी हुई थी. हिंदू पक्ष के अलावा मुस्लिम पक्ष भी फैसले का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहा था. हालांकि कोर्ट ने आज कोई फैसला नहीं सुनाया और सुनवाई को आगे के लिए टाल दिया. अब कोर्ट 11 अक्टूबर को फिर से इस मामले की सुनवाई करेगा.

इस खबर में ये है खास

  • विश्वेश्वर शिवलिंग होने का दावा
  • सुनवाई के योग्य माना था मामला
  • सुरक्षा में तैनात थी भारी पुलिस फोर्स

विश्वेश्वर शिवलिंग होने का दावा

हिंदू पक्ष की ओर से दावा किया जा रहा है कि ज्ञानवापी मस्जिद के वजू घर में मिला कथित शिवलिंग ही पुराने मंदिर का शिवलिंग है. हिंदू पक्ष की ओर से विश्वेश्वर शिवलिंग बताया जा रहा है. अपने दावे को सही साबित करने के लिए हिंदू पक्ष की ओर से शिवलिंग की कार्बन डेटिंग कराने की याचिका कोर्ट में डाली गई है. हालांकि हिंदू पक्षकार में शामिल 5 में से एक महिला ने कार्बन डेटिंग का विरोध किया है. उसका कहना है कि इससे शिवलिंग के खंडित होने का खतरा है. वहीं मुस्लिम पक्ष ने भी कार्बन डेटिंग का विरोध किया है.

सुनवाई के योग्य माना था मामला

अदालत के आदेश पर पिछली मई में ज्ञानवापी परिसर का वीडियोग्राफी सर्वे कराया गया था और इसी दौरान ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में एक पत्‍थर मिला था. हिन्‍दू पक्ष का दावा है कि वह शिवलिंग है जबकि मुस्लिम पक्ष का कहना है कि वह हौज में लगा फव्‍वारा है. इसके बाद कोर्ट ने इस केस को सुनवाई योग्य होने का फैसला सुनाया था. कोर्ट ने 12 सितंबर को ये फैसला सुनाया था. इसी के साथ अदालत ने अंजुमन मसाजिद कमेटी द्वारा 7/ 11 की याचिका को खारिज कर दिया था.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Gyanvapi Masjid Verdict: क्या थी अंजुमन कमेटी की याचिका? जिसे कोर्ट ने कर दिया खारिज

सुरक्षा में तैनात थी भारी पुलिस फोर्स

इतने अहम मामले की सुनवाई को लेकर कोर्ट की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जा रहा है. ज्ञानवापी मामले की सुनवाई के दौरान योगी सरकार की ओर से कोर्ट परिसर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया था. कोर्ट परिसर में भारी पुलिस फोर्स तैनात था. चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा था. ज्ञानवापी और काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई थी. ज्ञानवापी मस्जिद वाली गली में ज्यादा लोगों के जमा होने पर मनाही थी.

You May Also Like

बॉलीवुड

नई दिल्ली : बॉलीवुड टॉप एक्ट्रेस कृति सेनन (Kriti Sanon) इन दिनों अपनी फिल्म ‘भेड़िया’ (Film Bhediya) को लेकर चर्चा में बनी हुई हैं....

देश

JEE Main 2023: जेईई मेन 2023 परीक्षा तिथि और पंजीकरण के लिए उम्मीदवार आधिकारिक अपडेट की प्रतीक्षा कर रहे हैं. रिपोर्टों की मानें तो...

देश

3 मार्च 2002 को गोधरा कांड के बाद हुए दंगों के दौरान दाहोद जिले के लिमखेड़ा तालुका के एक गांव में भीड़ ने बिलकिस...

कोरोनावायरस

दुनिया पर एक नए वायरस का खतरा मंडराने लगा है. ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस के वैज्ञानिकों ने 48,500 साल पुराने जॉम्बी...

Advertisement