Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

UN में भारत ने पश्चिमी देशों पर कसा तंज, कहा- अनाज का बंटवारा Covid टीकों की तरह नहीं होना चाहिए

UN में भारत ने पश्चिमी देशों पर कसा तंज
UN में भारत ने पश्चिमी देशों पर कसा तंज

नई दिल्लीः भारत ने अनाज की कीमतों में ‘‘अनुचित वृद्धि’’ के बीच उसकी जमाखोरी और वितरण में भेदभाव पर चिंता व्यक्त करते हुए बुधवार को पश्चिमी देशों से आह्वान किया कि अनाज का बंटवारा Covid रोधी टीकों की तरह नहीं होना चाहिए. उसने कहा कि गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के उसके फैसले से यह सुनिश्चित होगा कि वह जरूरतमंद लोगों की जरूरतों को पूरा कर सकता है. विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन ने बुधवार को यहां कहा, ‘‘कम आय वाले विभिन्न वर्ग आज अनाज की बढ़ती कीमतों और उनकी पहुंच तक मुश्किल की दोहरी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं. यहां तक कि पर्याप्त भंडार वाले भारत जैसे देशों ने खाद्यान्न में अनुचित वृद्धि देखी है. यह साफ है कि जमाखोरी की जा रही है. हम इसे ऐसे ही चलने नहीं दे सकते.’’

खबर में खास

  • खुदरा कीमतों को काबू में करना
  • खाद्य सुरक्षा खतरे में पड़ गई है
  • टीकों की तरह नहीं होना चाहिए
खुदरा कीमतों को काबू में करना

मुरलीधरन ‘ग्लोबल फूड सिक्योरिटी कॉल टू एक्शन’ पर मंत्री स्तरीय बैठक में बोल रहे थे, जिसकी अध्यक्षता अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने की. यह बैठक ऐसे समय में हुई है जब भारत ने गत शुक्रवार को झुलसाने वाली गर्मी के कारण गेहूं की कमी के बीच बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने की कवायद में गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. इस फैसले का मकसद गेहूं और गेहूं के आटे की खुदरा कीमतों को काबू में करना है, जो पिछले एक साल में औसतन 14 से 20 फीसदी तक बढ़ गयी है.

खाद्य सुरक्षा खतरे में पड़ गई है

साथ ही इसका उद्देश्य पड़ोसी और कमजोर देशों की खाद्यान्न आवश्यकताओं को पूरा करना है. विदेशी व्यापार महानिदेशालय ने पिछले सप्ताह एक अधिसूचना में कहा कि केंद्र सरकार की अनुमति के आधार पर गेहूं के निर्यात को मंजूरी दी जाएगी. भारत ने उच्च स्तरीय बैठक में संयुक्त राष्ट्र में पहली बार गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध के मुद्दे पर अपनी बात रखी. मुरलीधरन ने कहा कि भारत सरकार गेहूं की वैश्विक कीमतों में अचानक आयी वृद्धि को स्वीकार करती है, जिससे ‘‘हमारी और हमारे पड़ोसियों तथा अन्य कमजोर देशों की खाद्य सुरक्षा खतरे में पड़ गयी है.’’

टीकों की तरह नहीं होना चाहिए

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी अपनी खाद्य सुरक्षा से निपटने तथा पड़ोसी और अन्य कमजोर विकासशील देशों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, हमने 13 मई 2022 को गेहूं के निर्यात के संबंध में कुछ उपायों की घोषणा की.’’ भारत ने पश्चिमी देशों से आह्वान किया और उन्हें आगाह किया कि अनाज का मुद्दा Covid रोधी टीकों की तरह नहीं होना चाहिए. अमीर देशों ने भारी संख्या में कोविड रोधी टीके खरीद लिए, जिसकी वजह से गरीब तथा कम विकासशील देश अपनी आबादी को पहली खुराक देने में भी जूझते नजर आए. (Input: Bhasha)

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

क्रिकेट

BCCI Surprising everyone: इंडियन क्रिकेट (Indian Cricket) में आजकल सरप्राइज देने का दौर चल रहा है. ये बात हम यूं ही नहीं कह रहे...

देश

अगस्त में नए उपराष्ट्रपति भी मिल जाएंगे. चुनाव को लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष में प्रत्याशी को लेकर भारी मंथन जारी है. जल्द ही दोनों...

क्रिकेट

Virat Kohli- Bad Luck!: ”इसी होनी को तो क़िस्मत का लिखा कहते हैं जीतने का जहां मौका था वहीं मात हुई”. इंग्लैंड और भारत...

क्रिकेट

नई दिल्ली: इंग्लैंड टेस्ट टीम की किस्मत अचानक बदल गई है. इंग्लैंड ने पिछले 4 टेस्ट मैचों में धमाकेदार जीत दर्ज की है वो...

Advertisement