Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

11 सालों की मेहनत लाई रंग, कश्मीर के इस टीचर ने बनाई घाटी की पहली सोलर कार

kashmiri teacher solar car
kashmiri teacher solar car

नई दिल्ली: कोई भी काम यदि मेहनत और जुनून से की जाए तो एक ना एक दिन जरूर पूरी होता है. इसी मेहनत और काम का नतीजा है कि कश्मीर के एक टीचर ने सोलर कार(Kashmiri Teacher Solar Car) तैयार कर ली है. कश्मीर के बिलाल अहमद(Bilal Ahmed) नाम के इस शख्स ने करीब 11 साल की मेहनत और शोध के बाद घाटी की पहली सोलर कार तैयार कर ली है. बता दें कि बिलाल ने सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और पेशे से टीचर हैं और श्रीनगर में रहते हैं. वो यहां पिछले 11 सालों से सोलर कार बनाने का काम कर रहे हैं. कठिन संघर्ष के बाद उनकी मेहनत रंग लाई और उन्होंने अपना आविष्कार पूरा कर लिया है. अहमद के इस सोलर कार सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है साथ ही अहमद के इस इनोवेशन की खूब तारीफ कर रहे हैं.

अहमद बताते हैं कि वो हमेशा से ही एक कार बनाना चाहते थे जो शानदार होने के साथ साथ आम लोगों के बजट में भी हो. इसके लिए उन्होंने 50 के दशक की कारों का अध्ययन करना शुरू कर दिया. शुरूआत में वो दिव्यांगजनों के लिए कार बनाना चाहते थे लेकिन आर्थिक दिक्कतों के चलते वो ऐसा नहीं कर सके. इसके बाद 2009 में उन्होंने सोलर लग्जरी कार बनाने के लिए प्रोजक्ट पर काम करना शुरू किया और अब उनकी मेहनत रंग लाई और उनका प्रोजेक्ट पूरा हो गया है. बिलाल बताते हैं कि उनको इस काम में किसी भी प्रकार की सरकारी सहायता नहीं मिली उन्होंने अपने पैसों से ये बेहतर काम किया है.

बिलाल बताते हैं कि मर्सिडीज फरारी BMW जैसी कार खरीदना आम इंसान का सपना होता है उन्होंने इन सब बातों को ध्यान में रखकर शानदार कार तैयार की है. उनका कहना है कि ईंधन पेट्रोल डीजल के दाम महंगे होते जा रहे हैं इसको ध्यान में रखते हुए उन्होंने सौर ऊर्जा से चलने वालीकार बनाने का फैसला लिया. इसके लिए उन्होंने चेन्नई में विशेषज्ञों से भी बात की. कश्मीर में धूप कम होती है इसीलिए बिलाल ने कार में ऐसे सोलर पैनल का इस्तेमाल किया है जो कम धूप में भी आसानी से चल सकती है.

बता दें कि इस कार में चार लोग बैठ सकते हैं. कार पूरी तरह से इलेक्ट्रिक एनर्जी से चलती है जो मोनाक्रिस्टलाइन सोलर पैनलों द्वारा उत्पन्न होती है. बिलाल अहमद ने इस विशिष्ट प्रकार के सोलर पैनलों का उपयोग किया है क्योंकि वे कम से कम ऊर्ता मे भी अधिक बिजली उत्पन्न करते हैं.(सोर्स- ANI)

You May Also Like

देश

नई दिल्ली. अभी तक सीबीएसई (CBSE Result) बोर्ड परीक्षा का परिणाम नहीं हो सका है. लंबे समय से विद्यार्थी रिजल्ट का इंतजार कर रहे...

विदेश

नई दिल्लीः संयुक्त राज्य अमेरिका (America) के शिकागो में इलिनोइस के हाईलैंड पार्क में 4 जुलाई की परेड के दौरान फायरिंग(Firing) की घटना में मौतों का...

क्रिकेट

IND vs ENG Edgbaston 5th Test Day 4 Highlights: जो रूट (नाबाद 76) और जॉनी बेयरस्टो (नाबाद 72) के बीच 150 रन की साझेदारी...

कोरोनावायरस

नई दिल्ली: देश में Corona के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, नए मामलों का ग्राफ उठता जा रहा है ऐसे में देश के...

Advertisement