Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

Presidential election: भारत में कैसे होता है राष्ट्रपति चुनाव, कौन लोग करते हैं वोट, जानिए सब कुछ

उत्तर प्रदेश के 403 विधायकों का कुल मूल्य 83,824 है. राज्य के 80 सांसदों का कुल वोट मूल्य 56,640 है, जिससे राज्य के सांसदों और विधायकों के वोटों का कुल मूल्य 1.4 लाख हो जाता है, जिससे उन्हें लगभग 12.7 प्रतिशत वेटैज मिलता है.

President Election
भारत में कैसे होता है राष्ट्रपति चुनाव, कौन लोग करते हैं वोट, जानिए सब कुछ

नई दिल्ली. भारत में राष्ट्रपति चुनाव (Presidential election) का समय नजदीक आ रहा है. वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का जुलाई में कार्यकाल पूरा हो रहा है. इससे पहले राष्ट्रपति का चुनाव होना है. भारतीय जनता पार्टी ने अभी हाल में ही इस वर्ष हुए 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में 4 राज्यों में प्रचंड जीत दर्ज की है. हालांकि बीजेपी के लिए इसके बावजूद राष्ट्रपति का चुनाव जीतना आसान नहीं दिख रहा है. इसके पीछे विपक्षी दलों का राष्ट्रपति चुनाव एक साथ लामबंद माना जा रहा है. विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के चुनाव संयुक्त उम्मीदवार उतारने के संकेत दिए हैं. भारतीय जनता पार्टी ने राष्ट्रपति चुनाव के कमर कस ली है. आने वाले हफ्ते में बीजेपी (BJP) केंद्रीय मंत्रियों को राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के लिए समर्थन मांगने लगायेगी.

इस खबर में ये है खास-

  • राष्ट्रपति चुनाव में कौन लोग करते हैं वोट
  • इस बार एक सांसद के वोट की वैल्यू 700 होने की संभावना
  • यूपी में 403 विधायकों के वोट का मूल्य 83,824
  • कौन और कैसे बनता राष्ट्रपति
  • 2017 के राष्ट्रपति चुनाव का गणित
  • इस बार एनडीए के वोट प्रतिशत कम हुए

राष्ट्रपति चुनाव में कौन लोग करते हैं वोट

आईये जानते हैं कि भारत में राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है. राष्ट्रपति के चुनाव में कौन-कौन लोग वोट करते हैं. राष्ट्रपति का चुनाव एक निर्वाचक मंडल द्वारा किया जाता है. जिसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों दिल्ली और पुडुचेरी की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य शामिल होते हैं. निर्वाचक मंडल में लोकसभा के 543 सदस्य, राज्य सभा के 233 सदस्य और राज्य विधानसभा के 4,120 विधायक राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा लेते हैं. इन सबको मिलाकर इलेक्टोरल कॉलेज में 10,98,903 वोट हैं.

इस बार एक सांसद के वोट की वैल्यू 700 होने की संभावना

राष्ट्रपति चुनाव में सांसद के वोट की वैल्य निर्धारित है, जोकि इस समय 708 हैं, हालांकि इस बार के राष्ट्रपति चुनाव एक सांसद के मत का मूल्य 708 से घटकर 700 रह जाने की संभावना है. जबकि विधायकों के वोट की वैल्यू उस राज्य की जनसंख्या (1971 की जनगणना के आधार पर) को शामिल करने वाले एक सूत्र द्वारा निर्धारित किया जाता है, जिसका वह प्रतिनिधित्व करता है. उदाहरण के लिए, सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश के प्रत्येक विधायक का सभी राज्यों में उच्चतम मूल्य 208 है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

यूपी में 403 विधायकों के वोट का मूल्य 83,824

उत्तर प्रदेश के 403 विधायकों का कुल मूल्य 83,824 है. राज्य के 80 सांसदों का कुल वोट मूल्य 56,640 है, जिससे राज्य के सांसदों और विधायकों के वोटों का कुल मूल्य 1.4 लाख हो जाता है, जिससे उन्हें लगभग 12.7 प्रतिशत वेटैज मिलता है. वहीं पंजाब जैसे छोटे राज्यों में एक विधायक का वोट मूल्य 118, उत्तराखंड में 64 और गोवा में एक विधायकों के वोट का वैल्यू 20 है. इस प्रकार पंजाब का कुल मूल्य 13,572, उत्तराखंड 4,480 और गोवा 800 है. नामांकन दाखिल होने के बाद, विधायकों, उनके राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में, और संसद में सांसदों को वोट डालने के लिए (सांसदों के लिए हरा और विधायकों के लिए गुलाबी) मतपत्र दिए जाते हैं.

कौन और कैसे बनता राष्ट्रपति

राष्ट्रपति चुनाव के लिए अजीब गणित है. राष्ट्रपति चुनाव का विजेता वह व्यक्ति नहीं होता है जो सबसे अधिक वोट जीतता है बल्कि वह व्यक्ति होता है जिसे एक निश्चित कोटे से अधिक वोट मिलते हैं. इसलिए, प्रत्येक उम्मीदवार द्वारा डाले गए वोटों के कुल मूल्य की गणना करने के बाद, रिटर्निंग ऑफिसर डाले गए सभी वैध वोटों के मूल्य को जोड़ता है. वैध मतों के योग को 2 से विभाजित करके और भागफल में एक जोड़कर कोटा निर्धारित किया जाता है.

2017 के राष्ट्रपति चुनाव का गणित

Advertisement. Scroll to continue reading.

अगर बात करें 2017 के राष्ट्रपति चुनाव की तो एनडीए (NDA) के उम्मीदवार राम नाथ कोविंद को 661,278 वोट (65.65 प्रतिशत) हासिल किए, जबकि कांग्रेस (Congress) के नेतृत्व वाले विपक्ष की मीरा कुमार को 434,241 वोट (34.35 प्रतिशत) मिले थे. लेकिन अब इस समय की स्थिति काफी अलग है. खासकर 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के बाद से, जिसमें भारतीय जनता पार्टी ने 4 राज्यों में प्रचंड जीत दर्ज किया है. इस समय एनडीए की 17 राज्यों में शासन सत्ता हाथ में है.

इस बार एनडीए के वोट प्रतिशत कम हुए

भारतीय जनता पार्टी का तेदेपा, शिवसेना और अकाली दल जैसे सहयोगी साथ छूट गया है. हालांकि जद (यू) एनडीए के पाले में वापस आ गया है. अगर आंकड़ों की बात करें तो एनडीए अपने उम्मीदवार को राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए आवश्यक 50 प्रतिशत वोट शेयर से कम से कम 1.2 प्रतिशत अंक दूर है. एनडीए के वोट शेयर में गिरावट की वजह 2017 के राज्य चुनावों के मुकाबले 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभाओं में बीजेपी की संख्या में गिरावट आई है.

You May Also Like

क्रिकेट

Indian Cricket Team, Shikhar Dhawan: साउथ अफ्रीका के साथ टी 20 सीरीज के लिए घोषित भारतीय टीम (Indian Cricket Team)में शामिल किए गए अधिकांश...

क्रिकेट

IPL 2022, SRH VS PBKS: 15 वें सीजन के आखिरी लीग मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) ने पंजाब...

क्रिकेट

Indian Cricket Team: साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाले 5 मैचों की टी 20 सीरीज के लिए 18 सदस्यों वाली भारतीय टीम (Indian Cricket...

राज्य

हादसा सुबह साढ़े 3 बजे जलालगढ़ थाना क्षेत्र की सीमा में काली मंदिर के पास हुआ है. हादसे में 8 लोगों की मौत हो...

Advertisement