Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

राजस्थान संकट के बाद बोले गहलोत-कांग्रेस हाईकमान के फैसले को कभी चुनौती नहीं दूंगा, सोनिया से भी की बात

गहलोत गुट के विधायकों का कहना है कि नए सीएम के चयन में उनकी अनदेखी की गई. गहलोत के मंत्री शांति धारीवाल ने तो सोमवार को दिल्ली से भेजे गए पर्यवेक्षकों पर ही सवाल खड़ा कर दिया. धारीवाल ने अजय माकन पर निशाना साधते हुए कहा कि अशोक गहलोत को CM पद से हटाने की 100 फीसदी साजिश थी और प्रभारी महासचिव इसका हिस्सा थे.

Congress President Elections
राजस्थान संकट के बाद सोनिया से गहलोत ने की बात

नई दिल्ली. राजस्थान कांग्रेस संकट (Rajasthan Congress Crisis) के बाद पहली बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से बात की है. सोनिया गांधी से बातचीत के बाद गहलोत ने कहा कि मैं कभी आलाकमान को चुनौती नहीं दूंगा. रविवार को राजस्थान कांग्रेस में घमासान के बाद से खबर है कि कांग्रेस आलाकमान अशोक गहलोत से नाराज है. साथ अजय माकन ने गहलोत गुट के विधायकों के रवैये को अनुशासन हीन करार दिया था.

इस खबर में ये है खास-

  • राजस्थान कांग्रेस में हलचल तेज
  • 92 कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा
  • गहलोत के चुनाव लड़ने पर सस्पेंस
  • गहलोत को हटाने की 100% साजिश

राजस्थान कांग्रेस में हलचल तेज

कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव के बीच इस समय राजस्थान में हलचल तेज है. दरअसल में अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ने जा रहे थे, अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने पर उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ता. इसी को लेकर नए सीएम के चयन के लिए मुख्यमंत्री पर आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक होने वाली थी. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में दिल्ली से भेजे गए पर्यवेक्षक अजय माकन और मल्लिकार्जुन भी शामिल होने वाले थे.

92 कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा

हालांकि कांग्रेस विधायक दल की बैठक से अलग मंत्री शांति धारीवाल के घर पर गहलोत गुट के विधायकों की बैठक हुई. इस बैठक में गहलोत गुट के 92 विधायकों ने एक साथ इस्तीफा दे दिया और अपना इस्तीफा सौंपने के लिए विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के घर पहुंच गए. इसी के बाद रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी रद्द हो गई.

Advertisement. Scroll to continue reading.

यह भी पढें- भारत जोड़ो यात्रा से पहले गुलाम, आठवें दिन गोवा, 19 वें दिन गहलोत ने कांग्रेस को हिला डाला

गहलोत के चुनाव लड़ने पर सस्पेंस

रविवार की रात में सोनिया गांधी ने अजय माकन को राजस्थान संकट को सुलझाने का निर्देश दिया. रात में ही एक एक विधायकों से बात करने का आदेश दिया. लेकिन विधायकों ने पर्यवेक्षकों के सामने शर्त रख दी. उसके अगले दिन दोनों पर्यवेक्षक दिल्ली वापस लौट आए और गहलोत गुट के विधायकों के रवैये को अनुशासनहीन करार दिया. अब गहलोत के अध्यक्ष के चुनाव लड़ने पर भी सस्पेंस खड़ा हो गया है.

गहलोत को हटाने की 100% साजिश

गहलोत गुट के विधायकों का कहना है कि नए सीएम के चयन में उनकी अनदेखी की गई. गहलोत के मंत्री शांति धारीवाल ने तो सोमवार को दिल्ली से भेजे गए पर्यवेक्षकों पर ही सवाल खड़ा कर दिया. धारीवाल ने अजय माकन पर निशाना साधते हुए कहा कि अशोक गहलोत को CM पद से हटाने की 100 फीसदी साजिश थी और प्रभारी महासचिव इसका हिस्सा थे.

Advertisement. Scroll to continue reading.

यह भी पढें- Congress President Election: अशोक गहलोत अध्यक्ष पद की रेस से बाहर, जानें कौन-कौन हो सकता है डार्क हॉर्स

You May Also Like

क्रिकेट

IND vs NZ: इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा मुकाबला भी बारिश की वजह से पूरा नहीं हो सका. इंडिया द्वारा दिए 220 रनों...

बॉलीवुड

नई दिल्ली : बॉलीवुड टॉप एक्ट्रेस कृति सेनन (Kriti Sanon) इन दिनों अपनी फिल्म ‘भेड़िया’ (Film Bhediya) को लेकर चर्चा में बनी हुई हैं....

देश

JEE Main 2023: जेईई मेन 2023 परीक्षा तिथि और पंजीकरण के लिए उम्मीदवार आधिकारिक अपडेट की प्रतीक्षा कर रहे हैं. रिपोर्टों की मानें तो...

देश

3 मार्च 2002 को गोधरा कांड के बाद हुए दंगों के दौरान दाहोद जिले के लिमखेड़ा तालुका के एक गांव में भीड़ ने बिलकिस...

Advertisement