Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

Russia-Ukraine War: धमाकों के बीच बेसमेंट में छुपे 500 भारतीय छात्र, भारत सरकार से लगाई मदद की गुहार

जंग को लेकर दुनिया भर में हाहाकार मचा है. अमेरिका और नाटो ने यूक्रेन को बीच मंझधार में अकेला छोड़ दिया है. जंग के बीच तकरीबन 500 भारतीय छात्र (Indian Student) अभी भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं.

Russia-Ukraine War
Russia-Ukraine War

नई दिल्लीः यूक्रेन और रूस (Russia-Ukraine War) के युद्ध का आज दूसरा दिन है. अब तक यूक्रेन के 137 लोग मिसाइल और बम धमाकों में मारे गए हैं. रूस (Russia) के भी कई विमान ध्वस्त हुए हैं. युद्ध के दौरान यूक्रेन (Ukraine) ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि उसने रूस (Russia) के 800 सैनिकों, 7 विमान, 6 हेलीकॉप्टर और 130 बख्तरबंद गाड़ियों को तबाह कर दिया है. जंग को लेकर दुनिया भर में हाहाकार मचा है. अमेरिका और नाटो ने यूक्रेन को बीच मंझधार में अकेला छोड़ दिया है. जंग के बीच तकरीबन 20,000 भारतीय छात्र (Indian Student) अभी भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं.

इस खबर में ये है खास

  • लगभग 20 हजार छात्र फंसे
  • India Ahead ने किया छात्रों से संपर्क
  • छात्रों को निकालने की कवायद
  • भारत की मदद करेगा रूस
  • एक हाई लेवल मीटिंग भी हुई

लगभग 20 हजार छात्र फंसे

यूक्रेन पिछले कई वर्षों से रूसी राडार पर है और यह उन हजारों भारतीय छात्रों का आधार है जो ज्यादातर वहां चिकित्सा का अध्ययन करते हैं. विदेश मंत्रालय (MEA) के आंकड़ों से पता चलता है कि लगभग 20,000 भारतीय छात्र युद्धग्रस्त देश में फंसे हुए हैं, जिनमें से अधिकांश पूर्वी क्षेत्र में हैं, जो छात्र फंसे हैं उनका कहना है कि रूसी सैनिकों ने उन्हें घेर लिया है. इन छात्रों में से अधिकांश सूमी स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं. इन्होंने कहा कि उन्हें अपनी सुरक्षा का डर है क्योंकि बाहर गोलियों की आवाज सुनाई दे रही है.

India Ahead ने किया छात्रों से संपर्क

पंजाब की भारतीय छात्रा नवरोज ने बताया कि पूर्वी यूक्रेन में खार्किव मेडिकल कॉलेज के बेसमेंट में फंसी हुई है. उसने India Ahead को बताया कि रूसी सेना ने लड़ाई में कुछ घंटों के रुकने के बाद एक बार फिर क्षेत्र पर गोलाबारी शुरू कर दी. उसने कहा कि वे फिर से वापस आ गए हैं, मेरे दोस्त ने मुझ पर चिल्लाया क्योंकि मैं अपने हॉस्टल जाना चाहती थी. नवरोज़ ने कहा कि हम यहां में चारों तरफ से रूस से घिरे हुए हैं. भारत सरकार ने हमें जिन बिंदुओं तक पहुंचने के लिए कहा है, उस तक की यात्रा अभी सड़क के माध्यम से संभव नहीं है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

छात्रों को निकालने की कवायद

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने की कवायद लगातार तेज हो रही है. बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने CCS बैठक के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से करीब 25 मिनट तक फोन पर बात की. युद्ध रोकने की अपील और बातचीत से मामला हल करने के अलावा भारतीय छात्रों को सुरक्षित निकालने पर भी चर्चा हुई.

भारत की मदद करेगा रूस

पीएम मोदी और राष्ट्रपति पुतिन के बीच गुरुवार देर शाम जो बातचीत हुई है, उसका एक सकारात्मक नतीजा ये जरूर निकला है कि पुतिन प्रशासन भारतीय छात्रों को यूक्रेन से निकालने में सहयोग करेगा. भारत सरकार भी अपने तरीके से छात्रों के रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गई है. इसके लिए सरकार ने प्लान बी पर काम करना शुरू कर दिया है.

एक हाई लेवल मीटिंग भी हुई

Advertisement. Scroll to continue reading.

पीएम मोदी की अगुआई में एक हाई लेवल मीटिंग भी हुई, जिसके बाद विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने जानकारी दी है कि यूक्रेन से छात्रों की वापसी का प्लान तैयार है. उन्होंने जानकारी दी है कि अगर यूक्रेन से पोलैंड सड़क मार्ग से जाना हो तो 9 घंटे का रास्ता है और विएना के लिए 12 घंटे का रास्ता है, वो रास्ता भी मैप आउट हो गया है.

Advertisement

Trending

You May Also Like

Advertisement