Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

सीबीआई निदेशक: Mumbai High Court के मुख्य न्यायाधीश ने सुनवाई से खुद को अलग किया

Mumbai-High-Court
बंबई हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार की जांच के खिलाफ परमबीर सिंह की याचिका खारिज की (ANI)

नई दिल्ली: मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता की अगुवाई वाली बंबई उच्च न्यायालय (Mumbai High Court) की एक पीठ ने गुरूवार को बतौर सीबीआई निदेशक सुबोध जायसवाल की नियुक्ति को चुनौती देने वाली जनहित याचिका की सुनवाई से खुद को अलग कर लिया. न्यायमूर्ति दत्ता के खिलाफ की गई शिकायत के बाद पीठ ने खुद को सुनवाई से अलग कर लिया.

खबर में खास
  • पत्र लिखकर दर्ज की शिकायत
  • सरकार की ओर से हुई पेशी
  • पत्र के बारे में नहीं थी जानकारी
पत्र लिखकर दर्ज की शिकायत

महाराष्ट्र के पूर्व सहायक पुलिस आयुक्त राजेंद्र त्रिवेदी द्वारा दायर जनहित याचिका में जायसवाल की मई 2021 में सीबीआई निदेशक के रूप में की गई नियुक्ति को चुनौती दी गई है. Mumbai High Court के मुख्य न्यायाधीश दत्ता ने कहा कि उनके संज्ञान में आया है कि इस साल 22 मार्च को त्रिवेदी ने भारत के प्रधान न्यायाधीश एन.वी. रमण को एक पत्र लिखकर उनके खिलाफ ‘‘शिकायत’’ की है. महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक रहे जायसवाल को पिछले साल मई में सीबीआई का निदेशक नियुक्त किया गया था. त्रिवेदी ने वकील एस.बी. तालेकर के जरिये पिछले साल 11 नवंबर को याचिका दायर कर जायसवाल की नियुक्ति को चुनौती दी थी.

सरकार की ओर से हुई पेशी

केंद्र सरकार ने बुधवार को बंबई उच्च न्यायालय (Mumbai High Court) से कहा कि वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी सुबोध जायसवाल की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक के रूप में नियुक्ति कानून में निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार की गई है और उनके पास पर्याप्त अनुभव है. गुरूवार को, अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल एस वी राजू और एएसजी अनिल सिंह केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए. उन्होंने मामले की तत्काल सुनवाई का अनुरोध किया. इस पर मुख्य न्यायाधीश दत्ता ने कहा कि यह उचित नहीं होगा कि वह इस मामले की सुनवाई करें.

पत्र के बारे में नहीं थी जानकारी

उन्होंने कहा, ‘‘श्री तालेकर, आप शायद यह नहीं जानते होंगे, लेकिन आपके मुवक्किल (याचिकाकर्ता) ने भारत के प्रधान न्यायाधीश को मेरे खिलाफ शिकायत करते हुए एक पत्र लिखा था.’’ तालेकर ने कहा कि उन्हें उन्हें पत्र के बारे में जानकारी नहीं है और उनके मुवक्किल दावा कर रहे हैं कि उन्होंने ऐसा पत्र नहीं लिखा. तालेकर ने पीठ से मामले की सुनवाई से अलग नहीं होने का अनुरोध किया. हालांकि, न्यायमूर्ति दत्ता ने इससे इंकार कर दिया.

You May Also Like

राज्य

नई दिल्ली. राजस्थान में सियासी संकट (Rajasthan Congress Crisis) ने कांग्रेस के सामने नई मुसीबत खड़ी कर दी है. राजस्थान कांग्रेस के संकट ने...

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : OnePlus कंपनी जल्द भारतीय मार्केट में अपना नया बजट सेगमेंट स्मार्टवॉच लॉन्च करने वाली है. कंपनी इस स्मार्टवॉच को अपनी बहुप्रतिष्ठित...

देश

भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) के माध्यम से राहुल गांधी कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. दक्षिण भारत...

विदेश

नई दिल्लीः PM Modi आज जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के राजकीय अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे हैं. बता दें कि बुडोकन...

Advertisement