Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

पाला बदलते ही JDU का BJP पर ताबड़तोड़ हमला, नीतीश के सामने खड़ी हो सकती है चुनौती

जदयू का आरोप है कि इसके बाद भी भाजपा का षड्यंत्र जारी रहा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नीतीश कुमार के प्रभाव को कमजोर करने के लिए जदयू की इजाजत के बिना ही आरसीपी को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया था. नीतीश कुमार ने इसे जानते हुए भी भाजपा के खिलाफ कुछ नहीं बोला. चुपचाप अपमान सहते रहे.

Nitish Kumar
नीतीश कुमार (File Photo)

Abhay Kumar: बिहार में विगत दो महीने से जो कयास लगाए जा रहे थे, उसका पटाक्षेप मंगलवार को उस समय हो गया, जब नीतीश कुमार ने भाजपा से नाता तोड़कर राजद-कांग्रेस वाले महागठबंधन के साथ दूसरी बार सरकार बना ली. नीतीश कुमार के पाला बदलने का पुराना और लंबा इतिहास रहा है, मगर इस बार उनके सामने अपने इस फैसले को सही ठहराने की बड़ी चुनौती पेश हो सकती है. जदयू का आरोप है कि उसके दल के केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह को अपने विश्वास में लेकर भाजपा महाराष्ट्र की कहानी बिहार में दुहराना चाह रही थी. जदयू में सेंधमारी कर नीतीश कुमार की सरकार पलटने का षड्यंत्र किया जा रहा था. भाजपा से संबंध खत्म होते ही जदयू ने अपना बंद मुंह खोला और तड़ातड़ कई आरोप जड़ दिए.

इस खबर में ये है खास-

  • 2020 के विधानसभा को लेकर JDU का BJP पर आरोप
  • BP पर शाजिश करने का आरोप
  • JDU का BJP से तलाक का कारण

2020 के विधानसभा को लेकर JDU का BJP पर आरोप

सबसे बड़ी और कड़ी कसक उसे विधानसभा चुनाव के दौरान मिली, जिसमें चिराग पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति के माध्यम से भाजपा ने जदयू का कद छोटा करने की साजिश रची. जदयू का आरोप है कि भाजपा की शह पर चिराग ने विधानसभा चुनाव में यह भ्रम फैलाया कि परिणाम आने के बाद जदयू से भाजपा का गठबंधन खत्म हो जाएगा और वह भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रहे हैं. जदयू का यह भी आरोप है कि भाजपा ने अपने कई बड़े नेताओं को लोजपा से टिकट देकर जदयू के खिलाफ मैदान में उतार दिया. इसके चलते जदयू को विधानसभा चुनाव में कम सीटें मिलीं और नंबर तीन की पार्टी हो गई.

JDU को कमजोर करने का BJP पर आरोप

जदयू का आरोप है कि इसके बाद भी भाजपा का षड्यंत्र जारी रहा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नीतीश कुमार के प्रभाव को कमजोर करने के लिए जदयू की इजाजत के बिना ही आरसीपी को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया था. नीतीश कुमार ने इसे जानते हुए भी भाजपा के खिलाफ कुछ नहीं बोला. चुपचाप अपमान सहते रहे. हालांकि जदयू ने समय रहते आरसीपी को राज्यसभा में फिर से नहीं भेजकर भाजपा के इस षड्यंत्र को असफल कर दिया. जदयू के आरोपों को अगर सही भी मान लिया जाए तो सवाल यह भी उठेगा कि सबकुछ जानते हुए नीतीश इतने दिनों तक चुप क्यों बैठे रहे. जो काम उन्होंने आज किया, उसे पहले ही क्यों नहीं कर लिया.

Advertisement. Scroll to continue reading.

JDU का BJP से तलाक का कारण

इसके पीछे तर्क भी जदयू की ओर से दिया जाता है कि नीतीश कुमार भाजपा के उस अहसान को भूल नहीं रहे थे कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने जदयू को बराबरी के आधार पर सीटें दी थीं. यह जानते हुए भी कि जदयू के पास सिर्फ लोकसभा की दो सीटें हैं उसे 17 सीटें दीं, जिनमें 16 पर जीत हुई. अब सवाल उठता है कि नीतीश कुमार ने भाजपा से गठबंधन अभी क्यों तोड़ा. लोकसभा चुनाव नजदीक है. भाजपा की ओर से तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं. नीतीश कुमार पिछले 20 वर्षों से बिहार की दीवार में कैद होकर रह गए हैं. अभी भी अगर वह भाजपा के साथ बने रहते हैं तो राष्ट्रीय राजनीति के लिए उन्हें अवसर नहीं मिलेगा. इसलिए नए फलक की तलाश के लिए भाजपा के बंधन से निकलना जरूरी थी. भाजपा के साथ बने रहकर वह बिहार के लिए सुविधा की राजनीति तो करते रह सकते हैं, लेकिन दायरे को बड़ा करने के लिए गठबंधन बदलना आवश्यक था.

विपक्ष का मैदान अभी खाली है. पिछले दस वर्षों में कांग्रेस ने भाजपा से लड़कर खुद को आजमा लिया. दूसरे क्षेत्रीय दलों ने भी अपने-अपने तरीके से भाजपा के खिलाफ मोर्चा लिया। किंतु राष्ट्रीय स्तर पर किसी को सफलता नहीं मिल सकी है. हां, क्षेत्रीय स्तर पर जहां-तहां कुछ दलों को सफलता मिली है, लेकिन उससे राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के संगठित शक्ति के सामने कोई खास परिणाम नहीं निकला. नीतीश उसी रिक्ति को भरना चाहते हैं. कई क्षेत्रीय दलों को संगठित करके भाजपा के खिलाफ एक मोर्चा बनाने की ओर बढ़ सकते हैं. बुधवार को शपथ लेने के तुरंत बाद ही उन्होंने इस ओर संकेत भी किया है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : चाइना की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने अपना नया स्मार्टफोन Civi 2 को लॉन्च कर दिया है. कंपनी द्वारा इस स्मार्टफोन...

बॉलीवुड

Bigg Boss: बिग बॉस एक ऐसा रियलिटी शो है, जो टीआरपी में सबसे आगे रहा है. आगामी 1 अक्टूबर से कलर्स टीवी पर बिग...

क्रिकेट

Australia Team Announced, AUS vs WI: अनुभवी सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर और तीन अन्य शीर्ष खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैच की सीरीज के...

देश

नई दिल्ली: कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने एसएससी सीजीएल 2022 (SSC CGL) में खाली पदों का नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए...

Advertisement