Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

MP Serial Killer : उम्र 18 साल, 8 महीने और 4 मर्डर, सोचने पर मजबूर कर देगी सीरियल किलर की क्राइम स्टोरी

MP Serial Killer : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सागर और भोपाल (Bhopal) शहरों में पिछले 5 दिनों में चार चौकीदारों की हत्या करने के आरोप में यहां शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया सीरियल किलर शिवप्रसाद धुर्वे बचपन से ही गुस्सैल स्वभाव का है और अकेला रहना पसंद करता है. पुलिस ने बताया कि धुर्वे इन चार हत्याओं को अंजाम देने से पहले गोवा में काम कर रहा था, इसलिए गोवा पुलिस उससे वहां हुए अपराध से जुड़े कुछ अनसुलझे मामलों के बारे में पूछना चाहती है.

खबर में खास

  • “शिवप्रसाद मनोरोगी नहीं है”
  • भोपाल में 5 दिन में 3 हत्या
  • उम्र 18 साल, 8 महीने और 4 मर्डर
  • कहां का रहने वाला है आरोपी, जानिए
  • बाल सुधार गृह में रह चुका है

भोपाल में 5 दिन में 3 हत्या

दरअसल, भोपाल से शुक्रवार तड़के गिरफ्तार किये गये धुर्वे ने 28 अगस्त से एक सितंबर के बीच पांच दिनों में सागर शहर में तीन चौकीदारों और भोपाल में एक चौकीदार की कथित हत्या की. घटना के वक्त ये चारों चौकीदार रात में ड्यूटी पर थे और सो रहे थे. वह सोशल मीडिया से अच्छी तरह वाकिफ हैं और थोड़ा अंग्रेजी भी जानता है. नायक के मुताबिक आरोपी ने जल्दी पैसा कमाने के लिए चारों चौकीदारों की हत्या की थी और उनसे पैसे और मोबाइल लूटे थे.

उम्र 18 साल, 8 महीने और 4 मर्डर

नायक के मुताबिक कि धुर्वे की उम्र 18 साल और आठ महीने है और उसने चार हत्याओं को अंजाम देने का अपराध स्वीकार किया है. उन्होंने बताया कि आरोपी सोशल मीडिया से प्रभावित था और प्रसिद्ध होने के लिए उसने इन घटनाओं को अंजाम दिया.

Advertisement. Scroll to continue reading.

कहां का रहने वाला है आरोपी, जानिए

शिवप्रसाद मध्य प्रदेश के सागर जिले के केसली पुलिस थानांतर्गत केकरा गांव का रहने वाला है. उसे शिवा और हल्का के नाम से भी जाना जाता है. वह आठवीं पास है. वह आदिवासी है और गोंड जनजाति से ताल्लुक रखता है. वहीं, केकरा गांव के कुछ लोगों के अनुसार, शिवप्रसाद बचपन से ही गुस्सैल स्वभाव का था और अकेला रहना पसंद करता था और वह परिवार में सबसे छोटा है तथा उसका बड़ा भाई पुणे में मजदूरी करता है और उसकी दोनों बहनों की शादी हो चुकी है.

बाल सुधार गृह में रह चुका है

बताया जाता है कि एक बार पुणे में उसका अपने नियोक्ता के साथ विवाद हुआ और उसने अपने नियोक्ता को इतनी पीटा कि उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. इस घटना के बाद शिवप्रसाद को बाल सुधार गृह भेज दिया गया. लेकिन, बाद में उसके पिता ने उसकी जमानत करवाली ली. इस घटना के बाद वह काम करने के लिए गोवा चला गया, जहां उसने थोड़ी-बहुत अंग्रेजी बोलना सीखा.

“शिवप्रसाद मनोरोगी नहीं है”

Advertisement. Scroll to continue reading.

एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने बताया, “शिवप्रसाद मनोरोगी नहीं है. उसकी आपराधिक मानसिकता है. वह एक साधारण व्यक्ति की तरह व्यवहार कर रहा है. वह गोवा में काम करता था. इसलिए हमने गोवा में पुलिस से संपर्क किया है, ताकि उसके बारे में अधिक जानकारी हासिल की जा सके.”

You May Also Like

राज्य

जज का महिला स्टेनोग्राफर के साथ आपत्तिजनक वीडियो वायरल होने से अदालत की गरिमा को भी नुकसान पहुंच रहा है. इस खतरे को देखते...

क्रिकेट

Hardik Pandya: T20 WC 2022 के बाद BCCI T20 फॉर्मेट के लिए नए खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा मौके देने तथा नई और युवा...

राज्य

Samaresh Singh Passed Away: झारखंड के पूर्व मंत्री और पूर्व विधायक 81 वर्षीय समरेश सिंह (Samresh Singh) का गुरुवार को उनके बोकारो स्थित आवास...

देश

एम्स के निदेशक एम श्रीनिवास ने कहा कि मरीज संकट से प्रभावित न हों और वह इसे सुनिश्चित करने के लिए संस्थान के चक्कर...

Advertisement