Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

शिवसेना नेता संजय राउत की शिंदे गुट के विधायकों को धमकी, इस्तीफा देकर चुनाव का करें सामना

शिवसेना के अधिकतर विधायकों ने शिंदे का समर्थन किया है और वे फिलहाल गुवाहाटी में हैं. उनके विद्रोह के चलते शिवसेना प्रमुख व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली राज्य सरकार संकट में पड़ गई है.

Sanjay Raut
Sanjay Raut

नई दिल्ली. शिवसेना पर वर्चस्व की लड़ाई को लेकर उद्धव ठाकरे और बागी विधायक एकनाथ शिंदे के दरम्यान जारी खींचतान जारी है. इस बीच पार्टी के नेता संजय राउत ने शनिवार को बागी विधायकों को विधानसभा की सदस्यता छोड़कर नए सिरे से चुनाव का सामना करने की चुनौती दी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जो वापस आना चाहते हैं, उनके लिए पार्टी के द्वार खुले हैं. उन्होंने आशा व्यक्ति की शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महाविकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार वर्तमान संकट से बाहर निकल जाएगी.

इस खबर में ये है खास

  • आधे से ज्यादा विधायक एकनाथ शिंदे के साथ
  • पार्टी विद्रोहियों से निपटेगी शिवसेना
  • शिंदे खेमे के 16 विधायकों को नोटिस

आधे से ज्यादा विधायक एकनाथ शिंदे के साथ

शिवसेना के अधिकतर विधायकों ने शिंदे का समर्थन किया है और वे फिलहाल गुवाहाटी में हैं. उनके विद्रोह के चलते शिवसेना प्रमुख व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली राज्य सरकार संकट में पड़ गई है. राउत ने यहां पत्रकारों से कहा, ”विद्रोहियों को मेरी खुली चुनौती है कि वे इस्तीफा दें और अपने मतदाताओं से नए सिरे से जनादेश मांगें. अतीत में, छगन भुजबल, नारायण राणे और उनके समर्थकों ने अन्य दलों में शामिल होने के लिए शिवसेना विधायक के रूप में इस्तीफा दे दिया था. यहां तक ​​​​कि मध्य प्रदेश में (केंद्रीय मंत्री) ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों ने (मार्च 2020 में) कांग्रेस विधायकों के रूप में इस्तीफा दे दिया था.

पार्टी विद्रोहियों से निपटेगी शिवसेना

उन्होंने कहा कि शिवसेना के नेता और कार्यकर्ता तैयार हैं और नेतृत्व के संकेत का इंतजार कर रहे हैं. उन्होंने संकेत दिया कि पार्टी विद्रोहियों से निपटने के लिए तैयार है. इससे पहले, उन्होंने ट्वीट कर कहा कि आखिर कब तक वे (विधायक) असम के गुवाहाटी में ‘‘छिपे’’ रहेंगे, आखिरकार उन्हें ‘‘चौपाटी’’ (मुंबई के संदर्भ में) आना ही होगा. शिवसेना सांसद राउत ने ट्वीट किया, ‘‘कब तक छुपोगे गुवाहाटी में, आना ही पड़ेगा चौपाटी में.’’

Advertisement. Scroll to continue reading.

शिंदे खेमे के 16 विधायकों को नोटिस

महाराष्ट्र विधानमंडल सचिवालय ने शनिवार को शिंदे सहित शिवसेना के 16 बागी विधायकों को अयोग्य करार देने की मांग को लेकर दी गई अर्जी के आधार पर उन्हें ‘समन’ जारी कर 27 जून की शाम तक लिखित जवाब मांगा है. पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने उद्धव ठाकरे को बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अधिकृत किया है.

You May Also Like

राज्य

नई सरकार में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) उप-मुख्यमंत्री बने. शपथ ग्रहण के बाद तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के पैर भी छुए. शपथ ग्रहण...

टेक-ऑटो

amsung कंपनी आज अपना सबसे बड़ा इवेंट Galaxy Unpacked आयोजित करने जा रही है. कंपनी इस इवेंट की शुरुआत शाम 6:30 बजे करेगी. कंपनी...

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : Tecno कंपनी ने अपना नया स्मार्टफोन Tecno Camon 19 Pro 5G को लॉन्च कर दिया है. कंपनी ने इस स्मार्टफोन को...

राज्य

महागठबंधन सरकार में भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नीतीश कुमार का ही कब्जा है, जबकि डिप्टी सीएम की कुर्सी तेजस्वी यादव को मिली है....

Advertisement