Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

Bihar: 2019 के बाद पहली बार BJP को मिली बड़ी शिकस्त, कांग्रेस को डराने के चक्कर में बिहार गंवाया

महागठबंधन सरकार में भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नीतीश कुमार का ही कब्जा है, जबकि डिप्टी सीएम की कुर्सी तेजस्वी यादव को मिली है. बीजेपी को दूध की मक्खी की तरह से सत्ता से उठाकर बाहर फेंक दिया गया है. नीतीश से मिले धोखे से अब बीजेपी बेचारी सड़क पर आ गई है.

BJP
जेपी नड्डा-अमित शाह (File Photo: ANI)

बिहार में एक बार फिर से नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने पाला बदल लिया है. महागठबंधन सरकार में भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नीतीश कुमार का ही कब्जा है, जबकि डिप्टी सीएम की कुर्सी तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को मिली है. बीजेपी को दूध की मक्खी की तरह से सत्ता से उठाकर बाहर फेंक दिया गया है. नीतीश से मिले धोखे से अब बीजेपी बेचारी सड़क पर आ गई है.

इस खबर में ये है खास

  • 2019 के बाद से पहला झटका
  • नीतीश को तेजस्वी बोलते थे पलटूचाचा
  • कांग्रेस को डराने में बीजेपी ने बिहार गंवाया
  • 2024 के लिए नए सिरे से बनानी पड़ेगी रणनीति

2019 के बाद से बीजेपी को पहला झटका

2019 के बाद बीजेपी को पहली बार इतना बड़ा झटका लगा है. 2019 में हुए महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद को लेकर उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली थी. हालांकि बीजेपी ने ढाई साल बाद एकनाथ शिंदे के सहारे ना सिर्फ सत्ता में वापसी की, बल्कि शिवसेना को तोड़कर उद्धव से विश्वासघात का बदला भी पूरा कर लिया. 2021 में बंगाल में ममता के हाथों करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा. वहां पार्टी के तमाम विधायकों ने टीएमसी का दामन थाम लिया. तमिलनाडु की सरकार से बाहर होने के बाद भी उसे इतना झटका नहीं लगा था.

नीतीश को तेजस्वी बोलते थे पलटूचाचा

तेजस्वी यादव के पलटूचाचा एक बार फिर से उनकी लालटेन की रोशनी में बीजेपी पर बाण चला रहे हैं. नीतीश की पाला बदलने की खासियत को देखते हुए लालू यादव ने उनको सांप तक कह दिया था. लालू ने कहा था कि नीतीश वो सांप हैं जो हर दो साल में अपनी कांचली छोड़ते हैं. लालू प्रसाद का यह बयान अब सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. पिछले करीब 3 दशक के दौरान नीतीश का 4 बार हृदय परिवर्तन हुआ है और हर बार बीजेपी और आरजेडी के साथ ही खेल हुआ है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

कांग्रेस को डराने में बीजेपी ने बिहार गंवाया

कर्नाटक, मध्य प्रदेश और फिर महाराष्ट्र में ऑपरेशन लोटस की सफलता से बीजेपी का हौंसला सातवें आसमान पर था. विपक्ष को डराकर रखने के लिए पार्टी नेता ऑपरेशन लोटस का बखान किया करते थे. लोगों का कहना है कि महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के कारनामे से नीतीश सतर्क हो गए थे. उन्हें लग रहा था कि जिस तरह से शिवसेना को तोड़ा गया था जेडीयू के साथ वही काम आरसीपी सिंह कर सकते हैं. नीतीश कुमार ने इसी डर से बीजेपी के साथ संबंध तोड़ने में ही भलाई समझी.

JDU-BJP तलाक से राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश नारायण सिंह फंसे, क्या सोमनाथ चटर्जी की राह पकड़ेंगे?

बिहार में अमित शाह भी कुछ नहीं कर पाएंगे

बीजेपी को अपने चाणक्य यानी अमित शाह पर पूरा भरोसा है. फिर भी इस सच्चाई से भी मुंह नहीं मोड़ना चाहिए कि बिहार में पार्टी के पास देवेंद्र फडणवीस, प्रमोद सावंत, हिमंता बिस्वा सरमा जैसे सूरमा नहीं हैं. प्रदेश में कोई ऐसा नेता नहीं है जो गेम बदलने की क्षमता रखता हो. एक सुशील मोदी हैं, जिन पर नीतीश कुमार के पिछलग्गू होने का ठप्पा है और मोदी-शाह का आशीर्वाद भी उनके पास नहीं है. इसी कारण में बिहार में ऑपरेशन लोटस के बारे में पार्टी सोच भी नहीं सकती. लिहाजा पार्टी के पास विपक्ष में बैठने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

2024 के लिए नए सिरे से बनानी पड़ेगी रणनीति

2024 के लिए बीजेपी अभी से कमर कस चुकी है. भगवा पार्टी ने एक बार फिर से पीएम मोदी के नेतृत्व में मैदान में उतरने का फैसला किया है. इतिहास साक्षी है कि जिसने यूपी-बिहार को जीत लिया, वही दिल्ली की गद्दी पर बैठता है. बिहार में जेडीयू के साथ बीजेपी लोकसभा की सभी 40 सीटें जीतने की रणनीति पर काम कर रही थी. भगवा पार्टी को अब इस प्लान को पूरा करने में कठिनाइयां आ सकती हैं. नीतीश कुमार के जाने से पार्टी को नए सिरे से रणनीति तैयार करनी होगी.

You May Also Like

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : चाइना की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने अपना नया स्मार्टफोन Civi 2 को लॉन्च कर दिया है. कंपनी द्वारा इस स्मार्टफोन...

बॉलीवुड

Bigg Boss: बिग बॉस एक ऐसा रियलिटी शो है, जो टीआरपी में सबसे आगे रहा है. आगामी 1 अक्टूबर से कलर्स टीवी पर बिग...

क्रिकेट

Australia Team Announced, AUS vs WI: अनुभवी सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर और तीन अन्य शीर्ष खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैच की सीरीज के...

देश

नई दिल्ली: कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने एसएससी सीजीएल 2022 (SSC CGL) में खाली पदों का नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए...

Advertisement