Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

राजस्थानः स्वतंत्रता दिवस से पहले ISI के 2 एजेंट गिरफ्तार, पाकिस्तान के लिए कर रहे थे जासूसी

राजस्थान पुलिस ने इंटेलीजेंस की रिपोर्ट के आधार पर पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों का संबंध पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI से बताया जा रहा है. दोनों संदिग्ध भारतीय सेना से जुड़ी गुप्त जानकारी दुश्मन मुल्क में भेज रहे थे.

ISI Agent
राजस्थान से ISI के 2 संदिग्ध एजेंट गिरफ्तार

राजस्थान में स्वतंत्रता दिवस से पहले पुलिस को बड़ी सफलता हासिल हुई है. राजस्थान पुलिस ने इंटेलीजेंस की रिपोर्ट के आधार पर पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों का संबंध पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI से बताया जा रहा है. दोनों संदिग्ध पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रहे थे और भारतीय सेना से जुड़ी गुप्त जानकारी दुश्मन मुल्क में भेज रहे थे.

इस खबर में ये है खास

  • 'ऑपरेशन सरहद' के तहत हुई गिरफ्तारी
  • एक भीलवाड़ा का, दूसरा जयपुर का निवासी
  • सिर्फ 5वीं तक पढ़ा है आरोपी नारायण लाल

‘ऑपरेशन सरहद’ के तहत हुई गिरफ्तारी

पाकिस्तान बॉर्डर से जुड़े इलाकों में पुलिस इस समय ‘ऑपरेशन सरहद’ चला रही है. इसी के तहत दोनों संदिग्धों की गिरफ्तारी हुई है. ‘ऑपरेशन सरहद’ के तहत पुलिस इस साल अब तक 6 जासूस पकड़ चुकी है. इनमें तीन सैन्यकर्मी भी शामिल हैं. पुलिस ने बताया कि दोनों जासूस पाकिस्तान को भारतीय सेना से जुड़ी सूचनाएं भेजते थे. इसके बदले में उन्हें ISI की ओर से मोटी रकम ऑनलाइन ट्रांसफर की जा रही थी.

नीतीश कुमार पर बीजेपी का बड़ा अटैक, वोटबैंक के लिए PFI को बचाने का लगाया आरोप

Advertisement. Scroll to continue reading.

एक भीलवाड़ा का, दूसरा जयपुर का निवासी

पुलिस ने बताया कि आरोपियों की पहचान भीलवाड़ा निवासी नारायण लाल गदरी (27 साल) और कुलदीप शेखावत (24 साल) निवासी जयपुर के रूप में हुई है. पुलिस के अनुसार पकड़े गए आरोपियों में से एक ने पाकिस्तानी हैंडलर को कई कंपनियों के सिम कार्ड मुहैया कराए थे. वहीं दूसरा सेना की गोपनीय जानकारियां पाकिस्तान भेजता था. अधिकारियों ने बताया कि नारायण लाल गदरी पाकिस्तानी हैंडलरों को सिम उपलब्ध करवाता था. वहीं कुलदीप शेखावत पाकिस्तानी महिला हैंडलर के संपर्क में था.

सिर्फ 5वीं तक पढ़ा है आरोपी नारायण लाल

पुलिस की पूछताछ में आरोपी नारायण लाल ने बताया कि वह 5वीं तक पढ़ा है. वह पहले कुल्फी बेचने, बकरी पालने और ड्राइवर का काम करता था. एक दिन उसे फेसबुक पर एक लिंक मिला. जिसके जरिए वह एक व्हाट्सअप ग्रुप से जुड़ गया. उस ग्रुप में अश्लील सामग्री शेयर की जाती थी. व्हाट्सअप ग्रुप में पाकिस्तान सहित कई देशों के नागरिक जुड़े हुए थे. उसका कहना है कि उसने कुछ दिनों बाद ही व्हाट्सअप ग्रुप छोड़ दिया था. जिसके बाद पाकिस्तानी नंबर से एक व्यक्ति ने उससे संपर्क किया था. उसी ने पाकिस्तानी जासूस साहिल से मिलवाया था. साहिल उसे पाकिस्तान ले जाने की तैयारी कर रहा था.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Advertisement

Trending

You May Also Like

Advertisement