Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

RSS: कानपुर में लगेगी मोहन भागवत की पाठशाला, वाल्मीकि समाज को करेंगे संबोधित

कार्यक्रम में शामिल होने के लिए संघ प्रमुख कल (शनिवार) शाम को ही कानपुर पहुंच चुके हैं. इस अवसर पर RSS चीफ वाल्मिकी समाज के लोगों को भी संबोधित करेंगे. ये कार्यक्रम कानपुर के नानाराव पार्क में आयोजित किया जा रहा है.

Mohan Bhagwat
RSS प्रमुख मोहन भागवत (File Photo: ANI)

वाल्मिकी जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) बड़ा आयोजन करने जा रहा है. इस कार्यक्रम में संघ प्रमुख भागवत भी शामिल होंगे. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए संघ प्रमुख कल (शनिवार) शाम को ही कानपुर पहुंच चुके हैं. इस अवसर पर RSS चीफ वाल्मिकी समाज के लोगों को भी संबोधित करेंगे. ये कार्यक्रम कानपुर के नानाराव पार्क में आयोजित किया जा रहा है. कार्यक्रम को लेकर सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. पुलिस प्रशासन की ओर से भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

इस खबर में ये है खास

  • पथ संचालन का करेंगे नेतृत्व
  • कानपुर में तेजी से बढ़ रहा RSS
  • भेदभाव खत्म करने की अपील

पथ संचालन का करेंगे नेतृत्व

यहां आरएसएस प्रमुख संघ के घोष शिविर के 1500 संघ कार्यकर्ताओं के साथ पथ संचालन भी करेंगे. स्वयंसेवक वाद्य यंत्रों और ढोल के साथ उद्घोष करते हुए पैदल मार्च करेंगे. यह कार्यक्रम पूरी तरह से संघ के सांस्कृतिक विभाग करेगा. सर संघ चालक के कार्यक्रमों में उनके सम्मान में पथ संचलन किया जाता है. बता दें कि आरएसएस का घोष शिविर पहली बार कानपुर में लगा है.

कानपुर में तेजी से बढ़ रहा RSS

कानपुर में पिछले एक साल से दलित बस्तियों में संघ पदाधिकारी काफी सक्रिय हैं. कोरोनाकाल में संघ कार्यकर्ताओं ने दलित बस्तियों में लोगों की काफी मदद करने काम कर किया है. संघ के इन कामों को देखकर कानपुर में बड़े पैमाने पर युवा संघ के साथ जुड़ रहे हैं. संघ प्रमुख भी आज वाल्मिकी समाज के लोगों को संबोधित करेंगे. इससे वाल्मिकी समाज के लोग काफी खुश नजर आ रहे हैं.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Gujarat: चुनावों से पहले फिर मोदी-मोदी हुआ गुजरात, PM मोदी का 3 दिवसीय दौरा आज से

भेदभाव खत्म करने की अपील

इससे पहले संघ प्रमुख ने वर्ण व्यवस्था को खत्म करने की अपील की थी. संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि वर्ण और जाति जैसी अवधारणाओं को पूरी तरह से त्याग दिया जाना चाहिए. संघ प्रमुख ने कहा था कि सामाजिक समानता भारतीय परंपरा का एक हिस्सा थी, लेकिन इसे भुला दिया गया और इसके हानिकारक परिणाम हुए. उन्होंने कहा था कि जो कुछ भी भेदभाव का कारण बनता है उसे खत्म कर दिया जाना चाहिए.

Advertisement

Trending

You May Also Like

Advertisement