Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

नीतीश कुमार को लग सकता है तगड़ा झटका, ये करीबी नेता बदल सकते हैं पाला

RCP Singh joins BJP
RCP सिंह ने जदयू छोड़ा, बीजेपी में शामिल होने की संभावना (File Photo)

पटना: बिहार में नीतीश कुमार को तगड़ा झटका लगा है. सीएम नीतीश के सबसे करीबी आरसीपी ने बीजेपी का दामन थाम सकते हैं. सूबे के सियासी हलकों में माना जा रहा है कि वह सीएम नीतीश कुमार से काफी दिनों से नाराज चल रहे हैं. जिसका नतीजा ये हो सकता है कि वह कभी भी जदयू को आलविदा बोल सकते हैं. दरअसल, बताया जा रहा है कि जब से नीतीश कुमार ने आरसीपी सिंह का राज्यसभा से टिकट काटा है, तभी लेकर दोनों बेहद करीबी नेताओं में तल्खी आ गई है.

खबर में खास

  • बीजेपी की कार्यकारिणी में लिया हिस्सा
  • 7 जुलाई को मोदी सरकार में मंत्री बनाए गए

बीजेपी की कार्यकारिणी में लिया हिस्सा

खबर ये है कि हैदराबाद में बीजेपी की कार्यकारिणी में भी आरसीपी सिंह ने हिस्सा लिया था. बता दें कि नीतीश कुमार ने आरसीपी सिंह से नाराजगी की वजह से उन्हें राज्यसभा नहीं भेजा था. जिसके बाद से दोनों की नाराजगी सार्वजनिक हो गई थी. चर्चाएं होने लगी थी कि क्या आरसीपी सिंह नीतीश का साथ छोड़ेंगे या पार्टी से नीतीश उनको खुद निकाल देंगे.

7 जुलाई को मोदी सरकार में मंत्री बनाए गए

बता दें कि आरसीपी सिंह पिछले साल 7 जुलाई को मोदी सरकार में मंत्री बनाए गए थे. जेडीयू के दिग्गज नेताओं में आरसीपी सिंह शुमार थे. वह यूपी कैडर के आईएएस अधिकारी रहे थे. आरसीपी सिंह पहली बार नीतीश के संपर्क में तब आए जब वो साल 1996 में तत्कालीन केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा के निजी सचिव के रूप में तैनात थे.

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

क्रिकेट

Hardik Pandya: T20 WC 2022 के बाद BCCI T20 फॉर्मेट के लिए नए खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा मौके देने तथा नई और युवा...

राज्य

Samaresh Singh Passed Away: झारखंड के पूर्व मंत्री और पूर्व विधायक 81 वर्षीय समरेश सिंह (Samresh Singh) का गुरुवार को उनके बोकारो स्थित आवास...

देश

एम्स के निदेशक एम श्रीनिवास ने कहा कि मरीज संकट से प्रभावित न हों और वह इसे सुनिश्चित करने के लिए संस्थान के चक्कर...

राज्य

जज का महिला स्टेनोग्राफर के साथ आपत्तिजनक वीडियो वायरल होने से अदालत की गरिमा को भी नुकसान पहुंच रहा है. इस खतरे को देखते...

Advertisement