Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

बिहार में पहले ट्रेन का इंजन चोरी, अब रेलवे ट्रैक से तार गायब…चोरों ने लगवा दिया इमरजेंसी ब्रेक, जानें मामला

Rail Engine
(File Photo)

पटना: बिहार में अभी कुछ दिन पहले ट्रेन के इंजन चोरी करने और बेचने के आरोप में सीनियर सेक्शन इंजीनियर राजीव रंजन झा को नोएडा से गिरफ्तार किया है. अब इसी राज्य से एक और ट्रेन चोरी की खबर सामने आई है. वह भी बेहद नए अंदाज में चोरों ने इस वारदात को अंजाम दिया. दरअसल, सहरसा में चोरों की हरकत ने पूर्णिया जा रहे कोसी एक्सप्रेस में इमरजेंसी ब्रेक लगवा दिया. जिसकी वजह से ट्रेन में यात्रियों की जान सांसत में आ गई थी. चलिए जानते हैं तार और इंजन की चोरी का पूरा मामला आखिर क्या हैं.

खबर में खास

  • इमरजेंसी ब्रेक से यात्रियों की आफत में जान
  • रेलवे ट्रैक से करीब 350 मीटर तार चोरी
  • क्या हैं रेल के इंजन चोरी का मामला जानिए
  • कैसे हुआ था चोरी का खुलासा?

इमरजेंसी ब्रेक से यात्रियों की आफत में जान

सहरसा से पूर्णिया कोर्ट की ओर जा रही कोसी एक्सप्रेस ट्रेन के इंजन में ओवरडेड बिजली का तार फंस गया था. ट्रेन के लोको पायलट ने तेज आवाज के बाद इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोका. जिसकी वजह से यात्रियों में अफरातफरी के हालात बन गए थे. इस घटना की वजह से सहरसा-पूर्णिया कोर्ट रूट पर करीब 3 घंटे तक बाधित रहा.

रेलवे ट्रैक से करीब 350 मीटर तार चोरी

दरअसल, चोरों ने सहरसा-पूर्णिय रूट पर रेलवे ट्रैक से करीब 350 मीटर ओवरहेड तार चुरा लिए था. वहीं, चोर ट्रेन आती देख जितना तार समेट कर भाग सके, भाग गए, लेकिन लटकती हुए छोड़ गए, जिसमें कोसी एक्सप्रेस का इंजन फंस गया था. जानकारी मिलते ही तुरंत एईई श्रवण कुमार ने सहरसा से टावर वैगन को भेजा और काटे गए ओवरहेड बिजली तार को हटाकर सही किया.

Advertisement. Scroll to continue reading.

क्या हैं रेल के इंजन चोरी का मामला जानिए

अब जान लीजिए ट्रेन के इंजन चोरी का मामला क्या है. दरअसल, पिछले साल समस्तीपुर रेल मंडल के पूर्णिया कोर्ट स्टेशन के पास से फिल्मी स्टाइल में एक स्टीम इंजन चोरी हो गया था. चोरी का आरोप सीनियर सेक्शन इंजीनियर राजीव रंजन झा पर लगा था. रेलवे पुलिस को काफी दिनों से इसकी तलाश थी. आरपीएफ को अब कहीं जाकर सफलता हासिल हुई. रेलवे पुलिस ने मुख्य आरोपी को नोएडा से गिरफ्तार किया है. आरोपी को न्यायालय में पेशी के उपरांत जेल भेजा जाएगा. एक आरोपी अभी भी फरार चल रहा है, जबकि एक पहले ही कोर्ट में सरेंडर कर चुका है.

कैसे हुआ था चोरी का खुलासा?

रेलवे का एक बहुत पुराना स्टीम इंजन काफी समय से पूर्णिया कोर्ट स्टेशन के पास खड़ा था. दिसंबर 2021 में रेलवे ने इस इंजन को गैस कटर से कटवाकर समस्तीपुर लोको शेड में भेजने का फैसला लिया. ये काम समस्तीपुर डीजल शेड के इंजीनियर राजीव रंजन झा को सौंपा गया. इंजन को वहां से तो हटा दिया गया, लेकिन उसे समस्तीपुर लोको शेड में नहीं भेजा गया. इंजीनियर राजीव रंजन झा ने रेलवे के अधिकारियों की आंख में धूल झोंकते हुए लोको शेड के रजिस्टर में स्क्रैप लोड ट्रक की एंट्री भी दिखाई. हालांकि रेलवे पुलिस में सिपाही संगीता ने उनकी चोरी पकड़ ली. उन्होंने स्क्रैप नहीं पहुंचने पर अधिकारियों से इसकी शिकायत की. जिसके बाद पूरे मामले का पर्दाफाश हुआ था

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

देश

नई दिल्ली. अभी तक सीबीएसई (CBSE Result) बोर्ड परीक्षा का परिणाम नहीं हो सका है. लंबे समय से विद्यार्थी रिजल्ट का इंतजार कर रहे...

विदेश

नई दिल्लीः संयुक्त राज्य अमेरिका (America) के शिकागो में इलिनोइस के हाईलैंड पार्क में 4 जुलाई की परेड के दौरान फायरिंग(Firing) की घटना में मौतों का...

क्रिकेट

IND vs ENG Edgbaston 5th Test Day 4 Highlights: जो रूट (नाबाद 76) और जॉनी बेयरस्टो (नाबाद 72) के बीच 150 रन की साझेदारी...

कोरोनावायरस

नई दिल्ली: देश में Corona के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, नए मामलों का ग्राफ उठता जा रहा है ऐसे में देश के...

Advertisement