Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

राज्य

Udaipur: उदयपुर हत्याकांड के कानपुर से जुड़े तार, पाकिस्तान से भी है कनेक्शन

अब इस हत्याकांड के तार पाकिस्तान से जुड़े पाए गए. अब जांच में इस हत्या का संबंध यूपी के कानपुर से भी जुड़ पाए गए हैं. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टेलर कन्हैयालाल की हत्या के लिए जिन खंजरों का इस्तेमाल किया गया था, वे कानपुर से लाए गए थे. पुलिस के अनुसार उदयपुर की एसके इंजीनियरिंग नाम की फैक्ट्री में इन हथियारों को धार दी गई थी.

Udaipur Murder Case
Udaipur Murder Case

राजस्थान के उदयपुर (Udaipur Murder) में टेलर कन्हैयालाल (Kanhaiya Lal Murder) की हत्याकांड में अब हर रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं. अब इस हत्याकांड के तार पाकिस्तान से जुड़े पाए गए. अब जांच में इस हत्या का संबंध यूपी के कानपुर से भी जुड़ पाए गए हैं. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टेलर कन्हैयालाल की हत्या के लिए जिन खंजरों का इस्तेमाल किया गया था, वे कानपुर से लाए गए थे. पुलिस के अनुसार उदयपुर की एसके इंजीनियरिंग नाम की फैक्ट्री में इन हथियारों को धार दी गई थी.

इस खबर में ये है खास

  • कानपुर के खंजरों का इस्तेमाल हुआ
  • पाकिस्तान में आतंकी ट्रेनिंग ली
  • युवाओं को स्लीपर सेल बनाते थे
  • मुंबई हमले पर बाइक का नंबर

कानपुर के खंजरों का इस्तेमाल हुआ

अभी तक की तफ्तीश में ये सामने आया है कि गौस मोहम्मद ही इस हत्या का मास्टरमाइंड है. उसने ही मोहम्मद रियाज और अन्य लोगों के साथ इस हत्या को अंजाम दिया. दरिंदों ने इस हत्या का वीडियो बनाकर दावत-ए-इस्लामी, अल्लाह के बंदे, लब्बो या रसूलुल्लाह नामक व्हाट्सअप ग्रुप में शेयर किया था. बका दें कि दावत-ए-इस्लामी नामक कट्टरपंथी संगठन का हेडक्वार्टर कानपुर में है. अब जानकारी मिल रही है कि जिन खंजरों का इस्तेमाल हुआ वे कानपुर से ही आए थे.

पाकिस्तान में आतंकी ट्रेनिंग ली

पुलिस छानबीन में पता चला गया कि हत्यारा गौस मोहम्मद साल 2014 में आतंकी ट्रेनिंग भी ले चुका है. जांच में पता चला कि वो साल 2014 में पाकिस्तान गया था, वहां उसने आतंकी संगठन दावत-ए-इस्लाम से 45 दिन की ट्रेनिंग ली थी. वहां से वापस आने के बाद भी वो हमेशा पाकिस्तान के आतंकी संगठक तहरीके लब्बेक से संपर्क में था. जांच में ये भी पता चला है कि गौस मोहम्मद अपने साथ पाकिस्तान से 30 और लड़कों को लेकर आया था. वो सारे अभी कहां किसी को नहीं पता है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

युवाओं को स्लीपर सेल बनाते थे

जांच एजेंसियों को पता चला है कि कन्हैयालाल के दोनों हत्यारे भारत में बड़ा आतंकी नेटवर्क बना रहे थे. NIA सूत्रों के अनुसार दोनों बेरोजगार मुसलमान युवकों का ब्रेनवॉस कर रहे थे. ये मुस्लिम युवकों को उकसाकर स्लीपक सेल बना रहे थे. इसके लिए दोनों को विदेशों से फंडिंग हो रही थी. दोनों इसी काम से नेपाल भी जा चुके हैं. राजस्थान के 8 जिलों में इनका नेटवर्क फैला हुआ है. रामनवमी और हनुमान जयंती पर राजस्थान में हुए दंगों में भी इनका ही हाथ था.

मुंबई हमले पर बाइक का नंबर

हत्या के बाद भागने के लिए दरिंदों ने जिस बाइक का इस्तेमाल किया उसका नंबर मुंबई हमले की तारीख है. बाइक के नंबर पर किसी भी सुरक्षा एजेंसी का ध्यान नहीं गया. इस बाइक का मालिक मोहम्मद रियाज ही है. पुलिस सूत्रों के अनुसार दोनों ने व्हाट्सअप पर दावत-ए-इस्लामी, अल्लाह के बंदे, लब्बो या रसूलुल्लाह जैसे कई ग्रुप बना रखे हैं. जिनमें वे भड़काऊ सामग्री पोस्ट किया करते थे. इस ग्रुप में हजारों लोग जुड़े हुए हैं. हत्या का वीडियो भी दोनों ने इन्हीं ग्रुपों में डाला था.

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

राज्य

नई सरकार में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) उप-मुख्यमंत्री बने. शपथ ग्रहण के बाद तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के पैर भी छुए. शपथ ग्रहण...

टेक-ऑटो

amsung कंपनी आज अपना सबसे बड़ा इवेंट Galaxy Unpacked आयोजित करने जा रही है. कंपनी इस इवेंट की शुरुआत शाम 6:30 बजे करेगी. कंपनी...

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : Tecno कंपनी ने अपना नया स्मार्टफोन Tecno Camon 19 Pro 5G को लॉन्च कर दिया है. कंपनी ने इस स्मार्टफोन को...

राज्य

महागठबंधन सरकार में भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नीतीश कुमार का ही कब्जा है, जबकि डिप्टी सीएम की कुर्सी तेजस्वी यादव को मिली है....

Advertisement