Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

टेक-ऑटो

चीफ कंप्लाएंस अफसर की नियुक्ति अंतिम चरण में, ट्विटर ने सरकार को बताया

ट्विटर ने सरकार को पत्र लिखकर बताया है कि वह नये सूचना प्रौद्योगिकी नियमों के अनुरूप चीफ कंप्लाएंस अफसर की नियुक्ति करने के अंतिम चरण में है और सरकार को एक हफ्ते के भीतर अतिरिक्त ब्यौरा दे दिया जाएगा.

Twitter

नयी दिल्ली : ट्विटर ने सरकार को पत्र लिखकर बताया है कि वह नये सूचना प्रौद्योगिकी नियमों के अनुरूप चीफ कंप्लाएंस अफसर की नियुक्ति करने के अंतिम चरण में है और सरकार को एक हफ्ते के भीतर अतिरिक्त ब्यौरा दे दिया जाएगा. एक आधिकारिक सूत्र ने यह जानकारी दी. ट्विटर ने पांच जून की तारीख वाले सरकार के अंतिम नोटिस के जवाब में कहा कि वह नये दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए सभी कोशिशें कर रही है लेकिन कोविड-19 महामारी के वैश्विक असर की वजह से ऐसा करने में नाकाम रही है.

ट्विटर ने कहा, “हम मुख्य अनुपालन अधिकारी की नियुक्ति को अंतिम रूप देने के आखिरी चरण में हैं और हम अगले कुछ दिनों में एवं ज्यादा से ज्यादा एक हफ्ते में आपको अतिरिक्त ब्यौरा प्रदान कर देंगे.” सूत्र के मुताबिक ट्विटर ने सात जून को इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को यह पत्र भेजा.

ट्विटर के एक प्रवक्ता ने कहा, “ट्विटर हमेशा से भारत को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध रहा है और प्रतिबद्ध बना रहेगा तथा इस मंच पर अहम सार्वजनिक चर्चाओं को जगह देता रहेगा. हमने भारत सरकार को आश्वस्त किया है कि ट्विटर नये दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए सभी कोशिशें कर रही है और हमारी प्रगति का अवलोकन उनके साथ साझा किया गया है. हम भारत सरकार के साथ अपनी सकारात्मक चर्चा जारी रखेंगे.”

गौरतलब है कि सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों के लिये नये आईटी नियमों की घोषणा की थी जो पिछले महीने से लागू हो गए. नये नियमों के तहत ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप जैसे बड़े सोशल मीडिया मंचों को अतिरिक्त उपाय करने की जरूरत होगी. इसमें भारत में मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल अधिकारी और शिकायत अधिकारी की नियुक्ति आदि शामिल हैं.

प्रमुख सोशल मीडिया मंचों को नये नियमों के अनुपालन के लिये तीन महीने का समय दिया गया था. इस श्रेणी में उन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को रखा जाता है, जिनके पंजीकृत उपयोगकर्ताओं की संख्या 50 लाख से अधिक है. इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (मेइटी) ने ट्विटर को दिए गए अपने अंतिम नोटिस में कहा था कि ट्विटर द्वारा इन नियमों के अनुपालन से इनकार से पता चलता है कि माइक्रोब्लॉगिंग साइट में प्रतिबद्धता की कमी है और वह भारत के लोगों को अपने मंच पर सुरक्षित अनुभव प्रदान करने का प्रयास नहीं करना चाहती.

Advertisement. Scroll to continue reading.

मंत्रालय ने कहा था कि ये नियम हालांकि 26 मई, 2021 से प्रभावी हैं, लेकिन सद्भावना के तहत टि्वटर इंक को एक आखिरी नोटिस के जरिये नियमों के अनुपालन का अवसर दिया जाता है. उसे तत्काल नियमों का अनुपालन करना है. यदि वह इसमें विफल रहती है, तो उसे दायित्व से जो छूट मिली है, वह वापस ले ली जाएगी. साथ ही उसे आईटी कानून और अन्य दंडात्मक प्रावधानों के तहत कार्रवाई के लिए तैयार रहना होगा.

You May Also Like

राज्य

नई दिल्ली. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव के बाद आज यानी 8 दिसंबर को सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती शुरू...

देश

नई दिल्ली. देश के 2 राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद गुरुवार को सुबह 8 बजे से मतगणना हो रही है. गुजरात में एक...

देश

गुजरात में एक और 5 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए 63.14 फीसदी वोट डाले गए थे. वहीं हिमाचल में 12 नवंबर को 75.6...

राज्य

अब तक रुझानों के अनुसार एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी राज्य में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस और...

Advertisement