Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

देश

Ganesh Chaturthi 2021: गणपति बप्पा से जुड़े मोरया नाम के पीछे की कहानी

गणपति बप्पा से जुड़े इस मोरया नाम के पीछे का राज है एक गणेश भक्त. कहते हैं कि चौदहवीं सदी में पुणे के समीप चिंचवड़ में मोरया गोसावी नाम के सुविख्यात गणेशभक्त रहते थे.

ganesh chaturthi 2021 | Photo PTI

हर साल की तरह इस साल भी वो टाइम आ ही गया जब गणपति बप्पा के आने का इंतजार खत्म हो गया है. चारो तरफ गणपति बप्पा की गूंज है. लोग विघ्नविनाशक, मंगलमूर्ति की पूजा-अर्चना कर रहे हैं. उन्हें मोदक चढ़ा रहे हैं. पंडालों में गणपति बप्पा मोरया का उद्घोष भी सुनाई देता है. वहीं सोशल मीडिया पर भी मोरया, गणपति बप्पा मोरया हैशटैग से लोग अष्टविनायक के लिए अपनी श्रद्धा प्रकट कर रहे हैं. मगर आपने सोचा है कि गणपति के साथ जोड़े जाने वाले शब्द मोरिया का आखिर क्या मतलब है.

गणपति बप्पा से जुड़े इस मोरया नाम के पीछे का राज है एक गणेश भक्त. कहते हैं कि चौदहवीं सदी में पुणे के समीप चिंचवड़ में मोरया गोसावी नाम के सुविख्यात गणेशभक्त रहते थे. चिंचवड़ में इन्होंने कठोर गणेशसाधना की। कहा जाता है कि मोरया गोसावी ने यहां जीवित समाधि ली थी। तभी से यहां का गणेशमन्दिर देश भर में विख्यात हुआ और गणेशभक्तों ने गणपति के नाम के साथ मोरया के नाम का जयघोष भी शुरू कर दिया.

बता दें कि मोरया गोसावी के पुत्र चिंतामणि को भी गणेश का अवतार माना जाता है. मोरया गोसावी ने संजीवन समाधि ग्रहण की थी. चिंचवड में आज भी मोरया गोसावी की समाधि और उनके द्वारा स्थापित गणेश मंदिर बना हुआ है. उन्हें अष्टविनायक यात्रा शुरू करने का का श्रेय दिया जाता है. ऐसे ही महान और परम गणेश भक्त की अदभुत भक्ति-समर्पण और तपस्या के कारण उनका नाम गणपति बप्पा से एकाकार होकर गणपति बप्पा मोरया कहलाने लगा… मोरया मोरया… गणपति बप्पा मोरया.

आप सब जानते ही हैं कि भारत में भगवान ही नहीं भक्तों को भी पूजा जाता है. जैसे कृष्ण के साथ मीरा, राम के साथ हनुमान वैसे ही गणेश के साथ मोरिया . बात भक्ति की हो तो आस्था के आगे तर्क, ज्ञान, बुद्धि जैसे उपकरण काम नहीं करते. आस्था के सूत्रों की तलाश इतिहास के पन्नों पर नहीं की जा सकती. आस्था में तर्क-बुद्धि नहीं, महिमा का ज्यादा महत्व होता है.

You May Also Like

राज्य

नई दिल्ली. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव के बाद आज यानी 8 दिसंबर को सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती शुरू...

देश

नई दिल्ली. देश के 2 राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद गुरुवार को सुबह 8 बजे से मतगणना हो रही है. गुजरात में एक...

देश

गुजरात में एक और 5 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए 63.14 फीसदी वोट डाले गए थे. वहीं हिमाचल में 12 नवंबर को 75.6...

राज्य

अब तक रुझानों के अनुसार एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी राज्य में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस और...

Advertisement