Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

व्लादिमीर पुतिन को बड़ा झटका, UN में रूस के सलाहकार का इस्तीफा, बोले- मुझे अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई

Russia Ukraine War के बीच रूस को बड़ा झटका लगा है. संयुक्त राष्ट्र में रूस के सलाहकार ने इस्तीफा दे दिया है.

Boris Bondarev
व्लादिमीर पुतिन को बड़ा झटका, UN में रूस के सलाहकार का इस्तीफा, बोले- मुझे अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई (UN Watch)

Russia Ukraine War के बीच रूस को बड़ा झटका लगा है. संयुक्त राष्ट्र में रूस के सलाहकार ने इस्तीफा दे दिया है. गैर-सरकारी मानवाधिकार संगठन यूएन वॉच की एक विशेष रिपोर्ट के अनुसार, जिनेवा में राजनयिकों के साथ साझा किए गए एक बयान में बोरिस बोंडारेव ने लिखा, “मुझे अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई.” यूएन वॉच के कार्यकारी निदेशक हिलेल नेउर ने कहा, “बोरिस बोंडारेव एक नायक है, जो वर्तमान में ओस्लो फ्रीडम फोरम में भाग ले रहे हैं. ओस्लो फ्रीडम फोरम मानवाधिकार असंतुष्टों की एक वार्षिक सभा है.” उन्होंने कहा, अब हम संयुक्त राष्ट्र में और दुनिया भर में अन्य सभी रूसी राजनयिकों से उनके नैतिक उदाहरण का पालन करने और इस्तीफा देने का आह्वान कर रहे हैं. नेउर ने कहा, “बोंडारेव को इस सप्ताह दावोस में बोलने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए.

खबर में खास
  • UN मानवाधिकार परिषद से रूस को निकालने के लिए चला था अभियान
  • अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई, जितनी 24 फरवरी को आई थी
  • युद्ध की कल्पना करने वाले हमेशा सत्ता में बने रहना चाहते थे
  • रूस की विदेश नीति आज गर्मजोशी, झूठ और नफरत से भरी
  • मैं खूनी, बुद्धिहीन और अनावश्यक अपमान में हिस्सा नहीं ले सकता
UN मानवाधिकार परिषद से रूस को निकालने के लिए चला था अभियान

यूएन वॉच ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस को निकालने के लिए शुरू किए गए अभियान का नेतृत्व किया था. इसके अलावा इस समूह ने युद्ध का विरोध करने के लिए अप्रैल में मास्को में गिरफ्तार रूसी राजनीतिक कैदी व्लादिमीर कारा-मुर्ज़ा की रिहाई के लिए संयुक्त राष्ट्र में 30 गैर सरकारी संगठनों के एक अभियान का भी नेतृत्व किया. यूएन वॉच ने उनकी पत्नी एवगेनिया कारा-मुर्ज़ा को भी यूएन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया था.

अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई, जितनी 24 फरवरी को आई थी

अपने इस्तीफे में रूसी सलाहकार बोरिस बोंडारेव ने लिखा है— मेरा नाम बोरिस बोंडारेव है. 2002 से रूस के एमएफए में कार्यरत हूं और 2019 से अब तक जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में रूसी मिशन का काउंसलर रहा. अपने 20 साल के राजनयिक करियर में मैंने अपनी विदेश नीति के अलग-अलग मोड़ देखे हैं, लेकिन मुझे अपने देश पर इतनी शर्म कभी नहीं आई, जितनी इस साल 24 फरवरी को हुई थी. यूक्रेन के खिलाफ पुतिन द्वारा शुरू किया गया आक्रामक युद्ध न केवल यूक्रेनी लोगों के खिलाफ एक अपराध है, बल्कि, शायद रूस के लोगों के खिलाफ भी सबसे गंभीर अपराध है.

युद्ध की कल्पना करने वाले हमेशा सत्ता में बने रहना चाहते थे

जिन लोगों ने भी इस युद्ध की कल्पना की थी, वे केवल एक ही चीज चाहते थे- हमेशा सत्ता में बने रहना, धूमधाम से बेस्वाद महलों में रहना, नौकाओं पर नौकायन करना, जो पूरे रूसी नौसेना के लिए टन भार और लागत में तुलनीय है, असीमित शक्ति और पूर्ण दंड का आनंद ले रहे हैं. इसे प्राप्त करने के लिए वे जितने चाहे उतने जीवन बलिदान करने को तैयार हैं. इसके लिए हजारों रूसी और यूक्रेनियन पहले ही मर चुके हैं. मुझे यह स्वीकार करते हुए खेद है कि इन 20 वर्षों में विदेश मंत्रालय के काम में झूठ और अव्यवसायिकता का स्तर हर समय बढ़ रहा है.

रूस की विदेश नीति आज गर्मजोशी, झूठ और नफरत से भरी

हाल के वर्षों में यह केवल विनाशकारी हो गया है. निष्पक्ष जानकारी, निष्पक्ष विश्लेषण और शांत पूर्वानुमान के बजाय, 1930 के दशक के सोवियत समाचार पत्रों की भावना में प्रचार-प्रसार की बातें हैं. एक प्रणाली बनाई गई है जो खुद को धोखा देती है. मंत्री लावरोव इस प्रणाली की गिरावट का एक अच्छा उदाहरण हैं. आज, विदेश मंत्रालय कूटनीति के बारे में नहीं है. यह सब गर्मजोशी, झूठ और नफरत से भरी है. यह बहुत कम लोगों के हितों की सेवा करता है, इस प्रकार मेरे देश के अलगाव और गिरावट में योगदान देता है.

मैं खूनी, बुद्धिहीन और अनावश्यक अपमान में हिस्सा नहीं ले सकता

रूस के पास अब सहयोगी नहीं हैं और दोष देने वाला कोई नहीं है, लेकिन उसकी लापरवाह और गलत नीति है. मैंने एक राजनयिक बनने के लिए अध्ययन किया और 20 वर्षों तक राजनयिक रहा. मंत्रालय मेरा घर और परिवार बन गया है, लेकिन मैं अब इस खूनी, बुद्धिहीन और बिल्कुल अनावश्यक अपमान में हिस्सा नहीं ले सकता

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

देश

नई दिल्ली. अभी तक सीबीएसई (CBSE Result) बोर्ड परीक्षा का परिणाम नहीं हो सका है. लंबे समय से विद्यार्थी रिजल्ट का इंतजार कर रहे...

विदेश

नई दिल्लीः संयुक्त राज्य अमेरिका (America) के शिकागो में इलिनोइस के हाईलैंड पार्क में 4 जुलाई की परेड के दौरान फायरिंग(Firing) की घटना में मौतों का...

क्रिकेट

IND vs ENG Edgbaston 5th Test Day 4 Highlights: जो रूट (नाबाद 76) और जॉनी बेयरस्टो (नाबाद 72) के बीच 150 रन की साझेदारी...

कोरोनावायरस

नई दिल्ली: देश में Corona के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, नए मामलों का ग्राफ उठता जा रहा है ऐसे में देश के...

Advertisement