Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

यूक्रेन से बिना उकसावे के युद्ध कर रहा रूस, फ्रांसीसी दूत ने कहा- भारत और फ्रांस मिलकर काम कर रहे हैं काम

French Ambassador Emmanuel Lenain
French Ambassador Emmanuel Lenain (File Photo)

नई दिल्ली: फ्रांसीसी राजदूत इमैनुएल लेनैन ने कहा है कि यूक्रेन में रूसी युद्ध बिना उकसावे के खुलेआम हमला है. उन्होंने कहा कि फ्रांस और भारत खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा पर युद्ध के नतीजों के प्रभाव को कम करने के तरीकों पर काम कर रहे हैं. राजदूत ने पीटीआई को दिये एक साक्षात्कार में कहा कि फ्रांस ने रूस द्वारा यू्क्रेन के चार क्षेत्रों के अवैध कब्जे की कड़ी निंदा की है और इसे अंतरराष्ट्रीय कानून और यूक्रेन की संप्रभुता दोनों का गंभीर उल्लंघन बताया है.

संघर्ष को समाप्त करने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के हाल के आह्वान का स्वागत करते हुए, राजदूत ने कहा कि भारत और फ्रांस दोनों के नेता मास्को को बातचीत की मेज पर लौटने के वास्ते राजी करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हमें लगता है कि पुतिन साम्राज्यवाद के समय में लौटना चाहते हैं और हम यूरोप में, कहीं और भी इससे बचना चाहते हैं, खासकर इस क्षेत्र में जहां मैं बात कर रहा हूं.’’

लेनैन ने कहा, ‘‘हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भी, हम यह नहीं चाहते हैं और मुझे यकीन है कि भारत नहीं चाहता कि कोई भी पड़ोसी आक्रामकता से सीमाओं पर अतिक्रमण करे.’’ रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन के हिस्सों को रूस में ‘‘अवैध तरीके से शामिल करने’’ संबंधी संधियों पर शुक्रवार को हस्ताक्षर किए थे, जिसके बाद सात महीने से जारी युद्ध में तनाव और बढ़ गया.

पुतिन के इस नवीनतम कदम पर यूरोपीय संघ ने तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए संयुक्त बयान जारी कर चार क्षेत्रों- डोनेत्स्क,लुहांस्क, खेरसन और जापोरिज्जिया- के अवैध विलय को खारिज करते हुए उसकी निंदा की थी. राजदूत ने कहा कि फ्रांस भारत के निर्णय की स्वायत्तता का “बहुत सम्मान” करता है और पिछले महीने समरकंद के उज़्बेक शहर में पुतिन के साथ एक बैठक के दौरान मोदी की उस टिप्पणी की सराहना करता है कि “आज का युग युद्ध का नहीं है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह हमेशा की तरह एक बहुत ही स्वागत योग्य टिप्पणी है और आपने देखा है कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी का उल्लेख और उद्धरण दिया है.” उन्होंने कहा, “हमें ठीक इसी तरह के बयानों की जरूरत है, जो पुतिन से इस युद्ध को रोकने और बातचीत की मेज पर वापस लौटने का आह्वान करते हैं.’’

You May Also Like

क्रिकेट

PAK vs ENG: रावलपिंडी में खेले गए पहले टेस्ट में पाकिस्तान को 74 रनों से हराने के बाद इंग्लैंड ने दूसरे में जीत की...

क्रिकेट

Rahul Dravid on Team India loss: इंडियन क्रिकेट टीम इस समय बांग्लादेश के दौरे पर है और तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले...

देश

नई दिल्ली: बिहार कर्मचारी चयन आयोग (BSSC) ने बुधवार को इस बात की पुष्टि कि बीएसएससी सीजीएल प्रीलिम्स 2022-23 (BSSC CGL Prelims 2022-23) यानि...

राज्य

सपा के लिए मैनपुरी सीट जीतना काफी अहम माना जा रहा है. इसलिए चुनाव से पहले अखिलेश ने चाचा के साथ अपनी पुरानी अदावत...

Advertisement