Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

Russia-Ukraine War: इधर मिला नोबोल शांति पुरस्कार, उधर जापोरिज्जिया पर मिसाइल और ड्रोन से हमले, 11 की मौत

Zaporizhzhia
(Photo PTI)

Russia-Ukraine War: दक्षिण यूक्रेन के एक शहर में अपार्टमेंट इमारतों पर किए गए रूसी मिसाइल हमलों में मृतकों की संख्या बढ़कर 11 हो गई. इस बीच पहली बार विस्फोटकों से भरे ड्रोन ने शुक्रवार को यूक्रेन के कब्जे वाले जापोरिज्जिया को निशाना बनाया. क्षेत्रीय गवर्नर ओलेक्जेंडर एस. ने कहा कि ईरान में निर्मित शहेद-136 ड्रोन से जापोरिज्जिया शहर में हमले किए गए जिससे बुनियादी ढांचे को नुकसान हुआ. उन्होंने कहा कि उनका पहली बार इस्तेमाल वहां किया गया था.

खबर में खास

  • यूक्रेन की आपातकालीन सेवाओं ने बताया
  • इधर मिला नोबोल शांति पुरस्कार, उधर ड्रोन से हमला
  • आज पुतिन का 70 जन्मदिन
  • अल्फ्रेड नोबेल के विचार को पुनर्जीवित किया

यूक्रेन की आपातकालीन सेवाओं ने बताया

यूक्रेन की आपातकालीन सेवाओं ने बताया कि एक दिन पहले रूसी एस-300 मिसाइल हमलों में मृतकों की संख्या बढ़कर 11 हो गई और ध्वस्त मकानों के मलबे से 21 लोगों को बचाया गया. हाल में रूस ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों की अवहेलना करते हुए जापोरिज्जिया प्रांत के अपने देश में विलय की घोषणा की थी. इस प्रांत में यूरोप का सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा संयंत्र स्थित है.

इधर मिला नोबोल शांति पुरस्कार, उधर ड्रोन से हमला

इस बीच बेलारूस के जेल में बंद अधिकार कार्यकर्ता एलेस बियालियात्स्की, रूसी समूह मेमोरियल और यूक्रेन के संगठन सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज को इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार देने का ऐलान किया गया है. यूक्रेन के संगठन को ऐसे समय पर पुरस्कार के लिए चुना गया है जब यूक्रेन फरवरी से रूस के हमलों का सामना कर रहा है और दोनों देशों की सेनाएं कई इलाकों में आमने-सामने हैं.

Advertisement. Scroll to continue reading.

आज पुतिन का 70 जन्मदिन

इसके अलावा, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए उनके 70वें जन्मदिन पर यूक्रेन के एक संगठन को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुना जाना किसी झटके से कम नहीं है. नोबेल कमेटी की प्रमुख बेरिट रीज एंडरसन ने शुक्रवार को ओस्लो, नार्वे में नोबेल शांति पुरस्कार की घोषणा की. एंडरसन ने कहा कि कमेटी एक दूसरे के पड़ोसी देशों बेलारूस, रूस और यूक्रेन में मानवाधिकार, लोकतंत्र – शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के इन तीन बड़े पैरोकारों को सम्मानित करना चाहती है.

अल्फ्रेड नोबेल के विचार को पुनर्जीवित किया

उन्होंने ओस्लो में पत्रकारों से कहा, इस साल के नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं ने मानवीय मूल्यों और कानूनी सिद्धांतों का समर्थन और सैन्य कार्रवाई का विरोध करके सभी राष्ट्रों के बीच शांति – सौहार्द के अल्फ्रेड नोबेल के विचार को पुनर्जीवित किया है. यह एक ऐसा विचार है, जिसकी आज दुनिया को बेहद जरूरत है.

सोर्स: PTI

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

बॉलीवुड

नई दिल्ली : बॉलीवुड टॉप एक्ट्रेस कृति सेनन (Kriti Sanon) इन दिनों अपनी फिल्म ‘भेड़िया’ (Film Bhediya) को लेकर चर्चा में बनी हुई हैं....

देश

JEE Main 2023: जेईई मेन 2023 परीक्षा तिथि और पंजीकरण के लिए उम्मीदवार आधिकारिक अपडेट की प्रतीक्षा कर रहे हैं. रिपोर्टों की मानें तो...

कोरोनावायरस

दुनिया पर एक नए वायरस का खतरा मंडराने लगा है. ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस के वैज्ञानिकों ने 48,500 साल पुराने जॉम्बी...

स्पोर्ट्स

IND vs AUS Hockey: इंडियन टीम ऑस्ट्रेलिया में चल रही 5 मैचों की हॉकी सीरीज के तीसरे मैच में वर्ल्ड नंबर ऑस्ट्रेलिया को हराकर...

Advertisement