Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

Russia-Ukraine War: यूक्रेन के झुकने के बाद रूस ने दिखाई नरमी, कीव में हमले रोकने का ऐलान

रूस द्वारा 24 फरवरी को यूक्रेन पर शुरू किए गए हमले के बाद पहली बार है जब रूस ने कुछ नरमी के संकेत दिए हैं. रूस (Russia) ने यूक्रेन की राजधानी कीव (Kyiv) और चेर्नीहीव के पास सैन्य अभियान में ‘कटौती’ करने का मंगलवार को फैसला किया.

Turkish President Recep Tayyip Erdogan
वार्ता से पहले रूसी और यूक्रेनी प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन (PTI)

नई दिल्लीः रूस-यूक्रेन के बीच पिछले एक महीने से जंग (Russia-Ukraine War) जारी है. जंग में रूसी सेना पूरे यूक्रेन पर मिसाइलें दाग रही है. जिससे यूक्रेन के तकरीबन सभी शहर पूरी तरह से तबाह हो चुके हैं. टूटी गाड़ियां, ऊंची-ऊंची इमारतों का बिखरा मलबा और सड़कों पर लाशें बर्बादी को साफ बयां कर रही हैं. इस बीच तुर्की ने दोनों देशों में शांति कराने की पहल की. इस बातचीत में रूस ने पहली बार नरमी दिखाई है. रूस (Russia) ने यूक्रेन की राजधानी कीव (Kyiv) और चेर्नीहीव के पास सैन्य अभियान में ‘कटौती’ करने का मंगलवार को फैसला किया.

इस खबर में ये है खास

  • तुर्की वार्ता में रूस के रुख में नरमी
  • कीव पर हमले में कटौती करेगा रूस
  • बाइडन को पुतिन पर बिल्कुल भरोसा नहीं
  • रूस पर भरोसा नहीं किया जा सकता- पश्चिमी देश
  • तुर्की के राष्ट्रपति की बड़ी पहल काम आई?

तुर्की वार्ता में रूस के रुख में नरमी

यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को कहा कि उसने एक रूपरेखा पेश की है जिसके तहत देश अपने आप को निष्पक्ष घोषित करेगा और अन्य देश उसकी सुरक्षा गारंटी देंगे. वार्ता के बीच रूस के उप रक्षा मंत्री अलेक्जेंडर फोमिन ने कहा कि रूसी सुरक्षा बल कीव और चेर्नीहीव की दिशा में सैन्य गतिविधियों में कटौती करेंगे. तुर्की में मंगलवार को रूस और यूक्रेन के वार्ताकारों के बीच हुई आमने-सामने की बातचीत के दौरान फोमिन का ये बयान सामने आया है. पिछले दौर की वार्ताएं विफल रहने के बाद रूस के इस बयान से ताजा बातचीत में सकारात्मक असर देखने को मिल सकता है.

कीव पर हमले में कटौती करेगा रूस

रूस द्वारा 24 फरवरी को यूक्रेन पर शुरू किए गए हमले के बाद पहली बार है जब रूस ने कुछ नरमी के संकेत दिए हैं. पिछले सप्ताह के अंत में और मंगलवार को ऐसे संकेत मिले कि रूस अपने युद्ध के लक्ष्यों में कटौती करना चाहता है, क्योंकि रूस ने कहा है कि अब उसका ”प्रमुख लक्ष्य” पूर्वी यूक्रेन के डोनबास प्रांत को अपने नियंत्रण में लेना है. यूक्रेन के राष्ट्रपति के एक सलाहकार ने कहा कि इस्तांबुल में हो रही बैठक के दौरान युद्धविराम पर सहमति के साथ ही यूक्रेन की सुरक्षा गारंटी जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा.

Advertisement. Scroll to continue reading.

बाइडन को पुतिन पर बिल्कुल भरोसा नहीं

वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने पूछा कि क्या रूस की घोषणा वार्ता में प्रगति का संकेत है या अपना हमला जारी रखने के लिए वक्त लेने की मॉस्को की तरकीब है. उन्होंने कहा कि हम देखेंगे. जब तक मैं यह नहीं देख लेता कि उनके कदम क्या हैं, तब तक मैं इसके मायने नहीं निकाल सकता. अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि उन्हें कुछ भी ऐसा दिखाई नहीं देता, जिससे महसूस हो कि वार्ता ‘रचनात्मक तरीके’ से आगे बढ़ रही है. उन्होंने रूसी सैन्य बलों को पीछे हटाने के संकेत को मॉस्को द्वारा लोगों का ध्यान भटकाने का प्रयास करार दिया.

रूस पर भरोसा नहीं किया जा सकता- पश्चिमी देश

ब्लिंकन ने मोरक्को में कहा कि एक तरफ वो है जो रूस कहता है और दूसरी तरफ, वो है जो रूस करता है और हम दूसरे हिस्से पर ध्यान केंद्रित करते हैं. रूस जो कर रहा है, वो यूक्रेन को लगातार तबाह करने वाला है. पश्चिमी देशों के अधिकारियों ने कहा है कि रूस पूर्वी यूक्रेन में सैनिकों का जमावड़ा कर रहा है लेकिन यह अभी नहीं कहा जा सकता कि क्या कीव के आसपास सैन्य अभियान कम करने का मॉस्को का दावा सही है. इससे पहले भी दोनों देशों के वार्ताकारों के बीच हुई अन्य दौर की बातचीत में भी इन मुद्दों पर जोर रहा था. हालांकि वार्ता असफल रही थी.

तुर्की के राष्ट्रपति की बड़ी पहल काम आई?

Advertisement. Scroll to continue reading.

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने कहा कि दोनों पक्षों पर लड़ाई रोकने की ‘ऐतिहासिक जिम्मेदारी’ है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि युद्ध का लंबा चलना किसी के भी हित में नहीं है. जेलेंस्की ने सोमवार देर रात कहा था कि यूक्रेनी सुरक्षा बलों ने राजधानी कीव के उत्तर-पश्चिम स्थित प्रमुख उपनगर इरपिन को दोबारा अपने नियंत्रण में ले लिया है. जेलेंस्की ने वीडियो संदेश में कहा कि हमें अब भी लड़ना होगा, हमें सहन करना होगा. यह निर्मम युद्ध हमारे देश, हमारे लोगों और हमारे बच्चों के खिलाफ है.

You May Also Like

राज्य

नई दिल्ली. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव के बाद आज यानी 8 दिसंबर को सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती शुरू...

देश

नई दिल्ली. देश के 2 राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद गुरुवार को सुबह 8 बजे से मतगणना हो रही है. गुजरात में एक...

देश

गुजरात में एक और 5 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए 63.14 फीसदी वोट डाले गए थे. वहीं हिमाचल में 12 नवंबर को 75.6...

राज्य

अब तक रुझानों के अनुसार एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी राज्य में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस और...

Advertisement