Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

Salman Rushdie: ‘मुझे हैरानी हुई, जब सुना सलमान रुश्दी बच गए’, हमलावर ने कही बड़ी बात

सलमान रुश्दी (Salman Rushdie) पर न्यूयॉर्क में एक कार्यक्रम के दौरान हादी मतार (Hadi Matar) नामक व्यक्ति ने चाकू से जानलेवा हमला किया था. हमले में लेखक के जीवित बचने पर हमलावर ने हैरानी जताई है. जेल में बंद हादी मतार ने ‘न्यूयॉर्क पोस्ट’ को दिए इंटरव्यू में कहा कि वह रुश्दी के जीवित बचने को सुनकर हैरान है.

Salman Rushdie Attacker
सलमान रुश्दी को चाकू मारने वाला हादी मतार (Photo: Twitter)

अंग्रेजी के लेखक और बुकर पुरस्कार से सम्मानित सलमान रुश्दी की हालत में तेजी के साथ सुधार हो रहा है. सलमान रुश्दी (Salman Rushdie) पर न्यूयॉर्क में एक कार्यक्रम के दौरान हादी मतार (Hadi Matar) नामक व्यक्ति ने चाकू से जानलेवा हमला किया था. हमले में लेखक के जीवित बचने पर हमलावर ने हैरानी जताई है. जेल में बंद हादी मतार ने ‘न्यूयॉर्क पोस्ट’ को दिए इंटरव्यू में कहा कि वह रुश्दी के जीवित बचने को सुनकर हैरान है.

इस खबर में ये है खास

  • खामनेई का समर्थक है हमलावर
  • फतवे का पालन करने की बात कही
  • रात को ही आयोजन स्थल पहुंचा था
  • हमलावर के पास दोहरी नागरिकता है

खामनेई का समर्थक है हमलावर

हमलावर हादी मतार ने कहा कि जब उसे एक ट्वीट से पिछली सर्दियों में पता चला कि लेखक चौटाउक्वा इंस्टीट्यूट में आने वाले हैं, तो उसने वहां जाने का फैसला किया. उसने कहा कि मुझे यह व्यक्ति पसंद नहीं है. मुझे नहीं लगता कि वह बहुत अच्छा व्यक्ति है. उसने कहा कि रुश्दी ऐसा व्यक्ति है, जिसने इस्लाम पर हमला किया. उसने उनकी आस्था पर हमला किया. मतार ने रूश्दी की किताब ‘द सैटेनिक वर्सेज’ से आपत्ति जताई. हमलावर ईरान के दिवंगत नेता अयातुल्ला रूहोल्ला खामनेई का समर्थक है.

फतवे का पालन करने की बात कही

उसने कहा कि वह ईरान के दिवंगत सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्ला रूहोल्ला खामनेई को एक बहुत अच्छा व्यक्ति मानता है, लेकिन वह यह नहीं कहेगा कि वह 1989 में ईरान में खामनेई द्वारा जारी किसी फतवे का पालन कर रहा था. बता दें कि रुश्दी की पुस्तक ‘द सैटेनिक वर्सेज’ को लेकर खामनेई ने रुश्दी को जान से मारने का फतवा जारी किया था. हालांकि ईरान ने हमले में किसी भी प्रकार की संलिप्तता से इनकार किया है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Afghanistan Blast: काबुल की मस्जिद में नमाज के दौरान ज़ोरदार बम धमाका, 21 की मौत, 60 घायल

रात को ही आयोजन स्थल पहुंचा था

न्यूजर्सी के फेयरव्यू में रहने वाले मतार ने कहा कि उसका ईरान के ‘रेवोल्यूशनरी गार्ड’ से कोई संबंध नहीं है. उसने समाचार पत्र से कहा कि उसने ‘द सैनेटिक वर्सेज’ के कुछ पन्ने पढ़े हैं. मतार ने कहा कि वह हमले से एक दिन पहले बस से बफेलो पहुंचा था और इसके बाद वह कैब से चौटाउक्वा पहुंचा. उसने कहा कि उसने चौटाउक्वा इंस्टीट्यूट मैदान का पास खरीदा. उसने बताया कि वो कार्यक्रम से एक दिन पहले ही आयोजन स्थल पर पहुंच गया था और रात को वहीं पार्क में सो गया था.

हमलावर के पास दोहरी नागरिकता है

मतार का जन्म अमेरिका में हुआ है, लेकिन उसके पास दोहरी नागरिकता है. वह लेबनान का भी नागरिक है, जहां उसके माता-पिता का जन्म हुआ था. उसकी मां ने संवाददाताओं से कहा कि मतार 2018 में लेबनान में अपने पिता से मिलने गया था और तभी से उसके व्यवहार में बदलाव आया. उन्होंने कहा कि इसके बाद से मतार अपने परिवार के प्रति उदासीन रहता था. रुश्दी (75) पर पश्चिमी न्यूयॉर्क के चौटाउक्वा इंस्टीट्यूशन में एक कार्यक्रम में मंच पर मतार ने हमला कर दिया था, जिसके बाद वह वेंटीलेटर पर थे.

Advertisement. Scroll to continue reading.

You May Also Like

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : चाइना की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने अपना नया स्मार्टफोन Civi 2 को लॉन्च कर दिया है. कंपनी द्वारा इस स्मार्टफोन...

बॉलीवुड

Bigg Boss: बिग बॉस एक ऐसा रियलिटी शो है, जो टीआरपी में सबसे आगे रहा है. आगामी 1 अक्टूबर से कलर्स टीवी पर बिग...

क्रिकेट

Australia Team Announced, AUS vs WI: अनुभवी सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर और तीन अन्य शीर्ष खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैच की सीरीज के...

देश

नई दिल्ली: कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने एसएससी सीजीएल 2022 (SSC CGL) में खाली पदों का नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए...

Advertisement