Connect with us

Hi, what are you looking for?

[t4b-ticker]

विदेश

भारत की मनाही के बाद श्री लंका ने चीनी जासूसी जहाज को दी अनुमति, हंबनटोटा पहुंचा युआन वांग-5

भारत ने हंबनटोटा में पोत के डॉकिंग पर अपनी सुरक्षा चिंताओं को व्यक्त किया था. इसके पीछे का कारण यह है कि यह एक जासूसी जहाज है, हालांकि इसे एक शोध जहाज बताया गया था.

Yuan Wang-5

नई दिल्ली. श्रीलंका ने शनिवार को चीनी जहाज युआन वांग -5 (Yuan Wang-5) को अपने हंबनटोटा बंदरगाह पर डॉक करने की अनुमति दी. इसे एक जासूसी जहाज माना जाता है. श्री लंका की ओर से चीन के जासूसी जहाज को ऐसे समय में अनुमति दी गई, जब भारत लगातार इसका विरोध कर रहा था. टाइम्स ऑनलाइन की एक रिपोर्ट के मुताबिक श्रीलंका सरकार ने शुक्रवार को युआन वांग-5 जहाज को बंदरगाह पर डॉक करने की मंजूरी दे दी. रिपोर्ट में कहा गया है कि युआन वांग 5 अब निर्धारित समय से पांच दिन बाद 16 अगस्त को हंबनटोटा अंतरराष्ट्रीय बंदरगाह पर उतरेगा. पहले यह 11 अगस्त को आने वाला था.

इस खबर में ये है खास-

  • भारत ने चीनी जहाज का किया विरोध
  • युआन वांग -5 एक जासूसी जहाज है
  • युआन वांग 5 को 2007 में बनाया गया था

भारत ने चीनी जहाज का किया विरोध

भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए इसका विरोध किया था. इस सप्ताह की शुरुआत में, श्रीलंका ने पुष्टि की कि उसने चीन को चीनी जहाज युआंग वांग 5 की यात्रा को हंबनटोटा बंदरगाह के लिए टालने के लिए कहा है. चीनी पोत को 11 अगस्त को चीनी पट्टे पर हंबनटोटा बंदरगाह पर ईंधन भरने के लिए डॉक करना था और 17 अगस्त को रवाना होना था. विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा, “मंत्रालय ने कोलंबो में चीनी जनवादी गणराज्य के दूतावास को उक्त पोत की यात्रा को हंबनटोटा बंदरगाह तक टालने के लिए कहा है.”

युआन वांग -5 एक जासूसी जहाज है

विदेश मंत्रालय ने कहा था कि वह श्रीलंका और चीन के बीच स्थायी दोस्ती और उत्कृष्ट संबंधों की पुष्टि करना चाहता है, जो एक ठोस आधार पर बना हुआ है, जैसा कि हाल ही में दो विदेश मंत्रियों अली साबरी और वांग यी ने अगस्त में नोम पेन्ह में एक द्विपक्षीय बैठक में दोहराया था. भारत ने हंबनटोटा में पोत के डॉकिंग पर अपनी सुरक्षा चिंताओं को व्यक्त किया था. इसके पीछे का कारण यह है कि यह एक जासूसी जहाज है, हालांकि इसे एक शोध जहाज बताया गया था.

Advertisement. Scroll to continue reading.

युआन वांग 5 को 2007 में बनाया गया था

यह जहाज समुद्र के तल का नक्शा बना सकता है जो चीनी नौसेना के पनडुब्बी रोधी अभियानों के लिए महत्वपूर्ण है. एक अनुसंधान और सर्वेक्षण पोत के रूप में नामित, युआन वांग 5 को 2007 में बनाया गया था और इसकी क्षमता 11,000 टन है. प्रमुख श्रीलंकाई बंदरगाह की इस महत्वपूर्ण यात्रा के दौरान यह हिंद महासागर क्षेत्र के उत्तर-पश्चिमी हिस्से में उपग्रह अनुसंधान कर सकता है, जिससे भारत के लिए सुरक्षा संबंधी चिंताएं पैदा हो सकती हैं.

You May Also Like

टेक-ऑटो

नई दिल्ली : चाइना की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने अपना नया स्मार्टफोन Civi 2 को लॉन्च कर दिया है. कंपनी द्वारा इस स्मार्टफोन...

बॉलीवुड

Bigg Boss: बिग बॉस एक ऐसा रियलिटी शो है, जो टीआरपी में सबसे आगे रहा है. आगामी 1 अक्टूबर से कलर्स टीवी पर बिग...

क्रिकेट

Australia Team Announced, AUS vs WI: अनुभवी सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर और तीन अन्य शीर्ष खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैच की सीरीज के...

देश

नई दिल्ली: कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने एसएससी सीजीएल 2022 (SSC CGL) में खाली पदों का नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए...

Advertisement